Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

पुलिस से बचने मॉ और बेटे ने पिता की लाश को जमीन में किया दफन

Monday, September 16, 2019

/ by News Anuppur

पति-पत्नी के छोटे से विवाद पर हुई धक्का मुक्की, जमीन में औधे मुंह गिरा पति, हुई मौत

राजेन्द्रगाम। करनपठार थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम खरसोल में पति-पत्नी के बीच हुए आपसी झगड़े में जहां पत्नी द्वारा अपने पति को धक्का दे दिया, जिससे पति नाक और मुंह के बल जमीन में जा गिरा जिससे उसकी मौत हो गई। इस पूरे मामले में जहां पत्नी ने अपने लड़के के साथ मिल पति की लाश को घर के बाहर बाडी में गड्ढा खोद कर दफना दिया, इतना ही नही दो माह बाद फिर से मॉ ने अपने बेटे को जगाया और फिर गड्ढा खोद लाश को बाहर निकाल घर से दूर स्थित अपने खेत में गाड़ दिए।
यह है मामला
मामले की जानकारी देते हुए करनपठार थाना प्रभारी सोने सिंह परस्ते ने बताया की 29 अगस्त को लखन सिंह ने अपने जीजा ओंमकार सिंह पिता अच्छेलाल ङ्क्षसह उम्र 55 वर्ष की गुमशुदगी दर्ज करवाई। जहां पुलिस ने गुमशदगी का मामला दर्ज कर विवेचना के लिए सरई चौकी भेजा गया। इस बीच मृतक के परिजनो ने जमीन के हिस्सा बांट के लिए ओंमकार ङ्क्षसह की उपिस्थति होना अनिवार्य बताया, लेकिन हर बार ओंमकार ङ्क्षसह की अनुपस्थिति पर उसने उसके घर पहुंच पूछताछ की गई, जहां ओंमकार की पत्नी धरनी बाई ने पूरा मामला बताते हुए अपनी गलती स्वीकार कर ली, जिसके कुछ दिनो बाद सूचना पुलिस को लग गई और पुलिस ने गुमशुदा ओंमकार के पुत्र जयपाल सिंह गोड़ को पूछताछ के लिए थाने ले आई, जहां उसने पूरी घटनाक्रम पुलिस को बताई।
पति-पत्नी के बीच विवाद पर हुई मौत
पूरे मामले में पुलिस ने बताया की मृतक के पुत्र जयपाल सिंह गोड़ से की गई पूछताछ पर उसने बताया की 29 मई बुधवार को ओंमकार सिंह पिता अच्छेलाल बाजार करने जा रहा था, जहां उसकी पत्नी धरनी बाई ने उससे तेन्दुपत्ता तोड़ाई में मिले रूपए को देकर बाजार जाने को कहा, जिस पर ओंमकार ने रूपए के हिसाब लेने की बात को बोलने से दोनो पति पत्नी के बीच विवाद हो गया, जहां धरनी बाई ने अपने पति ओंमकार को धक्का मार दी, जिससे ओंमकार मुंह एवं नाक के बल जमीन पर गिर पड़ा वहीं काफी देर तक ओंमकार के नही उठने पर धरनी बाई ने अपने पुत्र जयपाल सिंह गोड़ की मदद से उसे कमरे में ले जाकर सुला दी, जहां अचानक आधी रात में धरनी बाई ने अपने पुत्र को उठा कर ओंमकार की मौत हो जाने की बात बताई।
पुलिस से बचने शव को जमीन में दफनाया
जहां मॉ और बेटे को अपने पिता ओंमकार की मौत हो जाने की बात पता चली, जिसके बाद मॉ और बेटे ने पुलिस से बचने के लिए पिता ओंमकार के शव को घर के बाहर बाड़ी में गड्ढा खोद जमीन में दफना दिया और गड्ढे के ऊपर केले का पेड़ लगा दिया। पुत्र जयपाल सिंह ने बताया की अचानक घटना के दो माह बाद मॉ ने उसे फिर जगाया और दोबारा से पिता की लाश को बाहर निकालने एवं लाश को दूर खेत में दफनाने की बात कही जिस पर मैने फिर से पिता की लाश को गड्ढा खोद बाहर निकाला और लाश को दूर अपने खेत ले जाकर वहां पर दफन कर दिया।
मॉ और बेटे को पुलिस ने किया गिरफ्तार
करनपठार थाना प्रभारी सोने सिंह परस्ते ने बताया की बेटे के बयान के बाद एसडीएम पुष्पराजगढ़ एवं तहसीलदार को पत्र के माध्यम से खोदाई की अनुमति मांगी गई, जहां अनुमति मिलने पर 13 सितम्बर को नायब तहसीलदार आदित्य दुबे एवं ग्रामीणो के सामने बताए गए उक्त स्थान की खोदाई की गई, जहां पर चादर एवं प्लास्टिक की बोरी में लपटे कंकाल को बाहर निकाला गया एवं आरोपी धरमी बाई एवं उसके पुत्र जयपाल सिंह के खिलाफ धारा 302, 201, 34 के तहत मामला पंजीबद्ध करते हुए गिरफ्तार किया गया तथा न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हे जेल भेज दिया गया। वहीं इस अंधी हत्या का खुलासा करने में थाना प्रभारी करनपठार सोने ङ्क्षसह परस्ते, सहायक उपनिरीक्षक राघव बागरी, धनेश्वर पटेल, आर.डी. धुर्वे, प्रधान आरक्षक राम हर्ष पटेल, आरक्षक विमल सिंह, विजय द्विवेदी, अंकित चतुर्वेदी, जितेन्द्र सिंह ठाकुर, दिलीप सिंह, योगेन्द्र परमार एवं महिला आरक्षक सविता सिंह का सराहनीय योगदान रहा।


No comments

Post a Comment

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR