Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

छात्रावास अधीक्षका अर्चना नामदेव निलंबित

Tuesday, November 5, 2019

/ by News Anuppur
छात्राओं को धमकाना, अभद्रता, मानसिक प्रताडऩा की शिकायत पर हुई कार्यवाही
अनूपपुर। अनुसूचित जाति महाविद्यालय कन्या छात्रावास अनूपपुर की छात्राओं द्वारा अधीक्षिका अर्चना नामदेव के रात्रि के समय छात्रावास में नही रहने, छात्रावास में खाने की गुणवत्ता एवं सामग्री की मात्रा के संबंध में एवं छात्राओं के साथ अभद्र व्यवहार की शिकायत कलेक्टर से की गई, जहां शिकायत पर कलेक्टर ने अधीक्षिका अर्चना नामदेव के विरूद्ध शिकायत पर जांच समिति गठित कर जांच कराई गई एवं शिकायत सही पाए जाने पर कलेक्टर ने अधीक्षिका के खिलाफ म.प्र. सिविल सेवा (वर्गीकरण नियंत्रण अपील) नियम 1966 के नियम 10 के तहत उक्त कर्मचारी द्वारा किए गए कार्य कदाचरण की श्रेणी में आने से तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। निलंबित अवधि में अर्चना नामदेव का मुख्यालय विकासखंड शिक्षा अधिकारी अनूपपुर में किया जाकर नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्त देय होगा। मामले की जानकारी के अनुसार अनुसूचित जाति छात्रावास एवं सीनियर कन्या छात्रावास क्रमांक 2 अनूपपुर की लगातार शिकायत के बाद तीन सदस्यी जांच कमेटी जिसमें शासकीय बालक उ.मा. विद्यालय अनूपपुर के प्राचार्य बी.के. यादव, शासकीय उमा. विद्यालय करौंदी के प्रभारी प्राचार्य सेफाली सरकार एवं शासकीय बालक उ.मा. विद्यालय अनूपपुर की शिक्षक अलका यादव ने की। जांच में छात्रावास के कर्मचारियों से पूछताछ की गई और जांच सही पाई गई। इसके अलावा छात्रावास में खाने की गुणवत्ता विहीन पाए जाने तथा अधीक्षिका के व्यवहार के संबंध में 7 सितम्बर को दिन में छात्रा बीमार थी तो 108 एम्बुलेंस बुलाकर अस्पताल चली गई जिस पर अधीक्षिका ने उसे डांट कर टैक्सी से नही जाने की बात तथा कुछ शरारती लड़को द्वारा रात्रि में शराब पीकर छात्रावास में पत्थर मारने की घटना के बाद छात्राओं के द्वारा अधीक्षिका को बुलाया गया तो वे 5 मिनट के लिए आई और पुन: वापस चली गई। जिसके बाद उपद्रवियों द्वारा पुन: उपद्रव किया गया जिस पर फिर से जानकारी देने पर अधीक्षिका के नही आने पर छात्राओं ने 100 डॉयल को सूचना दी गई, जहां मौके पर पहुंची पुलिस ने छात्राओं को उनकी सुरक्षा का आश्वासन दिया जो जांच में प्रमाणित पाया गया। इसके अतिरिक्त अधीक्षिका द्वारा छात्राओं को अपशब्दो का प्रयोग, अपनी पहुंच ऊपर तक कह धमकाने, हॉस्टल से बाहर कर देने की धमकी एवं मानसिक रूप से प्रताडि़त किए जाने, अधीक्षिका के पति का बिना रोकटोक के किसी भी समय छात्रावास के अंदर प्रवेश  एवं पति का जन्मदिन मनाया जाना, छात्रावास में साफ-सफाई का अभाव, छात्रावास की रसोईया रानू एवं पुष्पा एवं चौकीदार प्रेमलाल से अधीक्षिका अपने घर का काम कराने संबंध उपरोक्त बिन्दुवार जांच के पश्चात छात्रावास में रहवासी छात्राएं स्वयं को असुरक्षित महसूस करने एवं छात्राओं के अध्ययन में भी प्रतिकूल प्रभाव पडऩे तथा छात्रावासी छात्राओं को प्रताडि़त किए जाने जैसे मामले में सत्यता पाई गई। जिससे किसी बड़ी दुर्घटना की आशंका को लेकर जांच समिति के प्रतिवेदन के आधार पर कलेक्टर द्वारा अधीक्षिका अर्चना नामदेव को निलंबित किया है।

No comments

Post a Comment

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR