Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

8 वर्षीय नाबालिग विक्षिप्त के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी की जमानत याचिका निरस्त

8 वर्षीय नाबालिग विक्षिप्त के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी की जमानत याचिका निरस्त

मंगलवार, 25 अगस्त 2020

/ by News Anuppur

अनूपपुर। विशेष न्यायालय (पॉक्सो) रवीन्द्र कुमार शर्मा के न्यायालय से आरोपी राजेश ताम्रकार पिता हरिप्रसाद निवासी उम्र 45 निवासी छुल्हा की जमानत याचिका न्यायालय ने निरस्त कर दी है। मामले की जानकारी देते हुए मीडिया प्रभारी राकेश पांडेय ने बताया कि मामला थाना कोतमा के अपराध क्रमांक 246/20 धारा 363 ,376 एबी, 3/4, 5/6 पॉक्सो एक्ट से सम्बंधित था, जिसमे अबोध विक्षिप्त बालिका कि मॉ ने आरोपी उपरोत के विरुद्ध अपहरण कर लेने की सूचना देते हुए बताई कि बालिका के घर पर न मिलने पर उसे घर वाले ढूढते रहे जो आरोपी के पास मिली, जिसे घर लाकर देखने पर उसके गुप्तांग से खून बह रहा था, जिसकी सूचना थाना कोतमा में दी गई, जहां पुलिस ने अपराध पंजीबद्ध कर अनुसंधान किया गया आरोपी द्वारा प्रथम दृष्टया अपराध प्रमाणित पाने पर आरोपी को गिरफ्तार किया गया। जिसके बाद आरोपी द्वारा उक्त अपराध के संबंध में जमानत याचिका इस आधार पर प्रस्तुत कि गई थी कि वह स्थानीय निवासी है कहीं फरार नही होगा प्रकरण के निराकरण में समय लगने कि पूर्ण संभावना है वह घर के एकमात्र कर्ता धरता है, जमानत मिलने पर न्यायालय की सभी शर्तो का पालन करेगा। इसलिए उसे जमानत का लाभ दिया जाए। उक्त संबंध में अभियोजन कि ओर से प्रस्तुत हुए विशेष लोक अभियोजन राजगौरव तिवारी द्वारा जमानत आवेदन पत्र का विरोध किया गया कि अबोध व विक्षिप्त बालिका के साथ जघन्य प्रकृति का अपराध किया गया है, जिसके लिए विधायिका ने 12 वर्ष से कम उम्र कि बालिका के साथ बलात्संग को गंभीर अपराध मानते हुए न्यूनतम 20 वर्ष व अधिकतम आजीवन कारावास जो शेष प्राकृत जीवन काल का होगा की सजा का प्रावधान किया है आरोपी को जमानत का लाभ दिए जाने पर वह साक्षी को प्रभावित कर सकता है व ऐसे गंभीर मामलो में जमानत दिए जाने पर समाज पर भी गलत संदेश जाएगा। उभय पक्षों के तर्कों को सुनने के पश्चात न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्कों से सहमत होते हुए आरोपी की जमानत याचिका अंतर्गत धारा 439 द.प्र खारिज कर दिया।

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR