Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

रेत के अवैध उत्खनन में शामिल शासकीय शिक्षक दीपक तिवारी निलंबित

रेत के अवैध उत्खनन में शामिल शासकीय शिक्षक दीपक तिवारी निलंबित

शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

/ by News Anuppur
 शासकीय शिक्षक दीपक तिवारी

अनियमितता एवं उत्खनिपट्टे की शर्तो के उल्लंघन पर स्वीकृत डोंगराटोला पत्थर खदान निरस्त

अनूपपुर। जिले में रेत के अवैध उत्खनन एवं परिवहन को हुए विवाद का वीडियो सोशल मीडिया में छाये रहने के मामले में खनिज विभाग पर भी कई सवाल खड़े कर दिए है। शासकीय माध्यमिक शाला पैरीचुआ के प्रधानाध्यापक दीपक तिवारी को रेत का अवैध उत्खनन में शामिल होना प्रमाणित पाते हुए कलेक्टर ने उन्हे निलंबित कर दिया है।  एक तरफ पहले वीडियो में सत्ता का धौंस दिखाने की बात कही जा रही है, तो दूसरी वीडियो में पुलिस एवं प्रशासन को मैनेज करने की बात ठेकेदार के प्रतिनिधियों द्वारा की जा रही है। यही हाल अनूपपुर जिला मुख्यालय से सटे सोन नदी स्थित सीतापुर एवं सोन मौहरी खदान का है। जहां सीतापुर में रेत ठेकेदार द्वारा नियम विरूद्ध तरीके से नदी से 50 मीटर दूर मेला ग्राउंड में तो वहीं सोन मौहरी रेत खदान में 100 मीटर दूर रेत का भंडारण करते हुए उसका परिवहन किया जा रहा है, जिस पर खनिज विभाग ने चुप्पी साध रखी है।

रेत में शामिल शासकीय शिक्षक दीपक तिवारी निलंबित

जिले के कोतमा तहसील अंतर्गत केवई नदी स्थित चंगेरी घाट में 31 जुलाई की रात के समय रेत के अवैध परिवहन को लेकर हुए विवाद और दूसरे दिन सोशल मीडिया में हुए वीडियो वाॅयरल पर 6 अगस्त को कलेक्टर ने शासकीय माध्यमिक शाला पैरीचुआ के प्रधानाध्यापक दीपक तिवारी को रेत का अवैध उत्खनन किया जाना प्रमाणित पाते हुए निलंबित कर दिया गया। मामले की जानकारी के अनुसार रेत के अवैध उत्खनन एवं परिवहन को लेकर चंगेरी घाट के रेत ठेकेदार केजी डेवलपर्स के प्रतिनिधि से भाजपा आर्थिक प्रकोष्ठ प्रदेश सहसंयोजक मनीष गोयनका, शासकीय माध्यमिक शाला पैरीचुआ के प्रधानाध्यापक दीपक तिवारी द्वारा प्रशासन की धौंस दिखाकर विवाद करने के मामले का वीडियो ने जमकर सुर्खियां बटोरी, जिसके बाद खनिज विभाग ने तीनो को कारण बताओं नोटिस जारी करते हुए निर्धारित समय पर जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए थे। जिस पर कलेक्टर ने विकासखंड शिक्षा अधिकारी कोतमा द्वारा प्रेषित प्रतिवेदन के आधार पर माध्यमिक शाला पैरीचुआ द्वारा अवैध रेत उत्खनन किया जाना प्रमाणित पाया गया है। जहां दीपक तिवारी शासकीय सेवक होते हुए अवैध रेत उत्खनन कर व्यवसाय किया जाना शासकीय सेवक के सेवा शर्तो एवं म.प्र. सिविल आचरण नियम 1965 के नियम 3 के विपरीत होने से दंडनीय है। जिस पर कलेक्टर ने म.प्र. सिविल सेवा (वर्गीकरण नियंत्रण तथा अपील) नियम 1966 के नियम 9 के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए निलंबन अवधि में मुख्यालय विकासखंड शिक्षा अधिकारी पुष्पराजगढ़ नियत किया गया है।

डोंगराटोला पत्थर खदान हुई निरस्त

कोतमा तहसील के ग्राम डोंगराटोला के खसरा क्रमांक 93 रकबा 1.610 हेक्टेयर निजी भूमि क्षेत्र पर क्रेशर आधारित पत्थर खदान 4 अप्रैल 2018 से 23 अप्रैल 2028 तक मेमर्स अमित मिनरल्स दिपेन्द्र सिंह निवासी वार्ड क्रमांक 2 आजाद चैक कोतमा को खनिज अधिकारी पी.पी. राय ने संबंधित पट्टेदार द्वारा स्वीकृत खदान के संबंध में म.प्र. गौण खनिज नियम 1996 के नियम 30 (26) के तहत पाई गई अनियमितताओं व शर्तो का उल्लंघन के तहत कारण बताओं नोटिस जारी किया गया था। जहां संबंधित पट्टेदार द्वारा कारण बताओं नोटिस का जवाब समय सीमा में प्रस्तुत नही किए जाने और न ही संतोषजनक जवाब होने पर स्वीकृत उत्खनिपट्टे की शर्तो के उल्लंघन का पट्टेदार दोषी करार दिया जाकर स्वीकृत खदान ग्राम डोंगराटोला के खसरा क्रमांक 93 रकबा 1.610 हेक्टेयर को म.प्र. गौण खनिज नियम 1996 के नियम 30 (26) के तहत 6 अगस्त को निरस्त कर दिया गया है।

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR