Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

Anuppur News: फिरौती के लिए अपहरण करने वाले आरोपियों को आजीवन कारावास

Anuppur News: फिरौती के लिए अपहरण करने वाले आरोपियों को आजीवन कारावास

बुधवार, 28 जुलाई 2021

/ by News Anuppur


जघन्य सनसनीखेज मामले में न्यायालय ने सुनायी सजा

अनूपपुर। न्यायालय द्वितीय जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश रविन्द्र कुमार शर्मा की न्यायालय ने आरोपीगण शैलाव कुमार लाल उर्फ बाहूबली पिता निर्भयचंद लाल उम्र 25 वर्ष निवासी ग्राम बसखली, अंकित शर्मा उर्फ  छोटू पिता रमाशंकर शर्मा उम्र 23, एवं सुनील सोनी पिता कमल प्रसाद सोनी उम्र 29 दोनो निवासी ग्राम टिकरी टोला बुढार को आजीवन कारावास सहित अर्थदंड से दंडित किया है। राज्य की ओर से विशेष लोक अभियोजक हेमंत अग्रवाल ने पक्ष रखा। 


मीडिया प्रभारी अभियोजन अनूपपुर राकेश कुमार पांडेय ने बताया की मामला थाना कोतमा के अपराध क्रमांक 419/16 धारा 364ए,  365, 120बी, 34, 417, 419, 420 भादवि 25, 27 आम्र्स एक्ट से संबंधित है। जिसमें फरियादी ने लिखित सूचना दिया था कि दोस्त श्याम लाल साहू के पिता अर्जुन उर्फ  बाबूलाल साहू जो कि बिजुरी कालरी में नौकरी करते है 24 अक्टूबर 2016 को घर ग्राम बसखला से बिजुरी कॉलरी ड्यूटी जाने के लिए निकले थे, इसके बाद ठीक सुबह 10 बजे मेरे दोस्त श्यामलाल के पास किसी अनजान व्यक्ति का फोन आया कि बाबूलाल साहू को हम अपहरण कर लिये है तुम पांच लाख रूपये फिरौती के रूप में दोगें तभी हम बाबूलाल को छोडगें। फिरौती की रकम कहां पहुचाना है, फोन करके बताएगे। 

जिसके बाद रिपोर्ट दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया गया। दौरान अनुसंधान पुलिस दौरा उक्त आरोपीगण के कब्जें से अर्जुन उर्फ बाबूलाल साहू को मनेन्द्रगढ कठौतिया छ.ग. के सूनसान जंगल से दस्तयाब किया गया तथा आरोपीगण को गिरफ्तार किया गया और आरोपीगण के कब्जे से अवैध हथियार भी बरामद किया गया। इस दौरान विवेचना शैलाव कुमार व अपहरित बाबूलाल के पुत्र श्यामलाल साहू से बातचीत व पैसे की मांग जो मोबाईल पर की गयी थी उसका व्यौरा पंचनामा सहित तैयार किया गया और अनुसंधान पूर्ण कर अभियोग पत्र आरोपीगण के विरूद्व न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। जिसके आधार पर न्यायालय द्वारा प्रकरण में विचारण किया गया। विचारण के दौरान तत्कालीन लोक अभियोजक द्वारा प्रकरण में आवेदन अंतर्गत धारा 91/311 दप्रस का प्रस्तुत कर न्यायालय से निवेदन किया गया कि आरोपीगण का वॉइस सेंपल लेकर जब्तशुदा मोबाईल रिकार्डिग से मिलान कराया जाना है। उक्त संबंध में लोक अभियोजक द्वारा तर्क कर न्यायालय से आवाज के नमूने लेकर एफएसएल से जांच कराने का आदेश न्यायालय से कराया गया। प्रकरण में हेमंत अग्रवाल अभियोजन अधिकारी द्वारा न्यायालय के समक्ष अंतिम तर्क उच्च न्यायालय एवं सर्वोच्च न्यायालय के न्याय दृष्टांतों सहित तर्कपूर्ण/तथ्यपूर्ण ढंग से प्रस्तुत किया गया। जिससे संतुष्ट होते हुए न्यायालय द्वारा उक्त आरोपीगण को धारा 364, 120बी भादवि में आजीवन कारावास एवं 1000 का अर्थदंड एवं धारा 365 भादवि में 7 वर्ष का कठोर कारावास एवं 1000 का अर्थदण्ड से दंडित करते हुए केन्द्रीय जेल जबलपुर भेजे जाने का निर्णय पारित किया गया।


कोई टिप्पणी नहीं

एक टिप्पणी भेजें

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR