Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

हत्या के फरार संदिग्ध आरोपी को अंततः लाईन अटैच पुलिस कर्मी ने तिलवाड़ाड से किया गिरफ्तार, सकरा तालाब से हथकडी हुई बरामद

हत्या के फरार संदिग्ध आरोपी को अंततः लाईन अटैच पुलिस कर्मी ने तिलवाड़ाड से किया गिरफ्तार, सकरा तालाब से हथकडी हुई बरामद

Friday, May 15, 2020

/ by News Anuppur

महिला की हत्या के कारणो का हुआ खुलासा, लूट के इरादे से दो लोगो ने मिलकर की थी हत्या 

अनूपपुर। कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम सकरा में 50 वर्षीय महिला की हत्या के संदिग्ध आरोपी द्वारिका कोल पिता भगत कोल निवासी सकरा ने पुलिस को चकमा देते हुए हथकड़ी सहित 6 मई को फरार हो गया। जिसके बाद कोतवाली निरीक्षक प्रफुल्ल राय ने हत्या के संदिग्ध आरोपी को पकड़ने के लिए रणनीति बनाई और 7 मई से ही आरक्षक दिनेश  एवं एक मुखबिर को लगा दिया गया। जहां लगातार आरोपी की सकरा के जंगलो में खोजबीन करते रहे। जिसके बाद आरोपी के जैतहरी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम तिलवाडांड में होने की सूचना मिली। लेकिन जब तक आरोपी को गिरफ्तार किया जाता, उसके पहले ही 14 मई को पुलिस अधीक्षक ने कोतवाली निरीक्षक प्रफुल्ल राय सहित तीन पुलिस कर्मियों को लाईन अटैच कर दिया। लेकिन आरक्षक दिनेश बंधैया ने हार नही मानते हुए 12 मई की शाम से ही ग्राम तिलवाडांड के जंगलो में रूककर 15 मई की सुबह लगभग 7.30 बजे हत्या के संदिग्ध आरोपी द्वारिका कोल को गिरफ्तार कर कोतवाली थाना वापस ला रहा था, जहां ग्राम चोरभटी में गश्त कर रही जैतहरी पुलिस के वाहन  को रोककर उनके माध्यम से आरोपी को कोतवाली अनूपपुर लाते हुए आरक्षक दिनेश बंधैया आरोपी द्वारा फेंके गए हथकड़ी की खोजबीन करने ग्राम सकरा के तालाब पहुंचे जहां लोगो की मदद से हथकड़ी को बरामद किया।

महिला की हत्या के कारणो का हुआ खुलासा

ग्राम सकरा में 20 अप्रैल की सुबह 50 वर्षीय महिला की हत्या के कारणो का पूर्व में ही निरीक्षक प्रफुल्ल राय ने खुलासा कर दिया था, जहां 6 मई को ही हत्या के मुख्य आरोपी सियाराम उर्फ मोटू बैगा तथा द्वारिका कोल को गिरफ्तार करते हुए पूछताछ भी की जा चुकी थी, जिसमें हत्या का कारण महिला से लूट का प्रसास रहा। मामले की जांच के दौरान 19 अप्रैल को महिला का झगड़ा उसके पति समनु बैगा के साथ विवाद हो गया था, जहां महिला लाॅकडाउन होने पर सुबह ही अपनी बेटी के ससुराल पैदल ही औढ़ेरा से धिरौल पटना के लिए निकल गई। जहां शाम को ग्राम सकरा पहुंचने पर महिला ने पानी पीने के लिए कुएं के पास रूकी और थोडी देर आराम करने लगी। इतने में ग्राम सकरा में ही रहने वाले मोटू बैगा एवं द्वारिका कोल की नजर महिला पर पड़ी थी।

लूट के इरादे से की हत्या

ग्राम सकरा में अंजान महिला को देखते हुए ग्राम सकरा में ही निवास करने वाली सियाराम उर्फ मोटू बैगा एवं द्वारिका कोल ने महिला के पास रूपए होने तथा उसे लूटने की योजना बनाई। जहां मोटू एवं द्वारिका कोल ने महिला द्वारा रखे गए रूपये लूटने पहुंचे, जहां महिला घबराकर मोटू के घर के आगे बने एक नाले की तरफ भागने लगी। जहां दोनो आरोपियों ने महिला को पकड़ लिया और मोटू कोल ने महिला का गला दबाकर उसे मार दिया तथा उसके रूपए लूट लिए।

घटना स्थल छिपाने महिला का शव फेंका सड़क किनारे

जानकारी के अनुसार पूरे मामले में जहां सियाराम बैगा एवं द्वारिका कोल ने महिला की गला दबा कर उसकी हत्या करने के बाद दोनो ने हत्या किए गए घटना स्थल को छिपाने के लिए सड़क के किनारे लाकर लाष को फेंक दिए, जिससे पुलिस गुमराह होने के साथ अन्य राहगीरों द्वारा हत्या करना समझा जा सके। जहां पूरे मामले की जांच के दौरान निरीक्षक प्रफुल्ल राय सहित लाईन अटैच हुए पुलिस कर्मियों ने 6 मई की शाम को दोनो आरोपी को गिरफ्तार करते हुए संदेही आरोपी द्वारिका कोल को घटना स्थल की षिनाख्ती और निशानदेही के लिए अपने साथ सकरा ले गई। जहां हत्या का संदेही आरोपी मौके देखकर वहां से फरार हो गया था।

तम्बाकू की डिब्बी ने किया हत्या का खुलासा

महिला की हत्या के मामले में जहां जांच दौरान पुलिस मृतिका के परिजनो ने पूछताछ करने के साथ ही महिला द्वारा घर से निकलते समय सामान की सूची बनाई, जहां परिजनो ने महिला के तम्बाकू खाने की आदत तथा अपने साथ रखने वाली तम्बाकू की डिब्बी रखने की बात कही। जिसके बाद विवेचना के दौरा मुखबिर की सूचना और मृतिक द्वारा रखे जाने वाली तम्बाकू की डिब्बी को द्वारिका कोल के घर की छानी में रखा पाया गया। जहां आरक्षक दिनेष ने तम्बाकू की डिब्बी की फोटो लेते हुए मृतिका के परिजनो को दिखाया गया, जहां मृतिका के परिजनो ने तम्बाकू की डिब्बी की पहचान कर ली। और पुलिस ने तत्काल ही संदेह के आधार पर द्वारिका कोल को पूछताछ के लिए पुलिस अभिरक्षा में लिया और तम्बाकू की डिब्बी ने पूरे मामले का खुलासा कर दिया गया। जिसके बाद हत्या के मुख्य आरोपी मोटू बैगा को भी उसी दिन गिरफ्तार कर लिया गया था।

दाग को मिटाने आरोपी को पकड़कर पुलिस ने लिया दम

महिला की हत्या के संदेही आरोपी द्वारा पुलिस को चकमा देकर फरार हो जाने के बाद कोतवाली पुलिस पर कई सवाल खड़े होने लगे, लेकिन इस बीच निरीक्षक प्रफुल्ल राय ने हार नही मानते हुए आरक्षक दिनेश एवं मुखबिर ने मिलकर फरार हुए आरोपी को पकड़ने के सकरा के जंगल को छान दिया। लेकिन आरोपी के नही मिलने के बाद उन्होने लगातार अन्य मुखबिर से संपर्क बनाए रखा तथा उसके हर ठिकानो पर नजर रखी गई, लेकिन आरोपी पकड़ा जाता इसके पहले ही निरीक्षक प्रफुल्ल राय सहित तीन पुलिस कर्मी लाईन अटैच हो गए। जानकारी के निरीक्षक प्रफुल्ल राय ने अपनी टीम के साथ मिलकर कई अंधी हत्याओं का पूर्व  कोमें खुलासा किया जा चुका है। जिसमें आरक्षक ने भी अंधी हत्या के आरोपियों जिनमें शांति नगर डबल मार्डर के आरोपियों को दमनदीप दादर नगर हवेली से आरोपी राजकुमार एवं कर्नाटक बैंगलोर से मुख्य आरोपी शहीद, खाड़ा रामपुर में युवती से दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या कर फांसी में लटकने वाले आरोपी का खुलासा, दुधमनिया में जादूटोना के शक पर महिला का सिर काटकर उसकी हत्या और सिर दूसरी जगह गाड़ दिए जाने के मामलो का खुलासा सहित पुलिस अधीक्षक के 363 में चलाए गए अभियान पर ग्राम सकरा एवं शांति नगर से एक ही दिन दो युवतियों की दस्तयाबी तथा 5 हजार का ईनाम के 363 एवं 376 के आरोपी मनोज धानक को जयपुर राजस्थान से गिरफ्तार कर लाने के साथ ही फर्जी काॅल कर लाॅटरी लगने के नाम पर उत्कृष्ट विद्यालय के षिक्षक से धोखाधडी करने वाले आरोपी को बिहार के बांका जिला से गिरफ्तार कर लाया गया था।


'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR