Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

देश - विदेश

Desh - Videsh

BOLLYWHOOD

BOLLYWHOOD

JOB & EDUCTION

JOB & EDUCTION

Tech

TECHNOLOGY

CRIME

CRIME

मध्य-प्रदेश

छत्तीसगढ़

Videos

Videos

राजनीति

BOLLYWOOD

टेक्नोलॉजी

फर्जी पत्रकार के खिलाफ लामबंद हुए कोतमा नगर के एक दर्जन से अधिक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं

एसपी के नाम कोतमा थाना प्रभारी को सौंपा ज्ञापन, कार्यवाही की मांग

बंसल न्यूज एवं पब्लिक एप के नाम का दुरूपयोग कर वसूली करने पर आमजनों में रोष

अनूपपुर। जिले में इन दिनों पत्रकारों को भी फर्जी पत्रकारों से भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल जिन पत्रकारों को पत्रकारिता का ज्ञान नही है वे लोग भी हाथ में माइक लेकर अपने आप को बड़ा पत्रकार कहते हुए शहर में सरेआम बिना किसी रोक-टोक के घूम कर अवैध वसूली में संलिप्त हैं, जिसका खमियाजा जिले वा क्षेत्र के पत्रकारों को उठाना पड़ रहा है। ऐसा ही एक मामला कोतमा विधानसभा क्षेत्र में देखने को मिला, जहां बंसल न्यूज एवं सोशल मीडिया प्लेटफार्म पब्लिक एप के नाम का उपयोग कर विनय उपाध्याय नाम व्यक्ति द्वारा अवैध वसूली करने की जन चर्चा आम हो गई। जिसके कारण समाज में कोतमा के समस्त पत्रकारों को इसका खमियाजा उठाना पड़ रहा है। जिसको लेकर 22 जून को कोतमा क्षेत्र के दो दर्जन से अधिक पत्रकारों ने कोतमा थाना पहुंच पुलिस अधीक्षक जितेन्द सिंह पवाॅर के नाम थाना प्रभारी कोतमा सुन्द्रेश मरावी को ज्ञापन सौंपा गया है।

ज्ञापन के माध्यम से पत्रकारों ने बताया कि विनय उपाध्याय नामक व्यक्ति इलेक्ट्राॅनिक चैनल बंसल न्यूज का रिर्पोटर है, तो पुलिस द्वारा बंसल न्यूज के क्षेत्रीय कार्यालय में पत्र प्रेषित कर उसके पत्रकार होने का प्रमाणीकरण मांगा जाए, म.प्र. शासन जनसंपर्क संचालनालय से जिला स्तरीय अधिमान्य पत्रकार अमित शुक्ला की छवि धूमिल करने के लिए फर्जी ब्लाॅगर सच से सामना डाॅट ब्लाॅगपोस्ट डाॅट काॅम बनाते हुए तथ्यहीन, भ्रामक एवं गलत जानकारी जानकारी पोस्ट किए जाने के मामले में पूरी जांच करते हुए तत्काल कार्यवाही किए जाने के साथ ही कोतमा अनुभाग अंतर्गत आने वाले समस्त थाना एवं चैकियों में चल रहे अवैध कार्यो पर तत्काल रोक लगाए जाने के साथ ही 17 जून को कार से डीजल का अवैध परिवहन करते पाए जाने पर पुलिस द्वारा की जा रही कार्यवाही के दौरान जिस पत्रकार द्वारा कार चालक को छुड़ाने पहुंचे कोई भी तथाकथित पत्रकार की थाने में लगे सीसीटीवी में कैद हुए फुटेज को सार्वजनिक किए जाने, जिससे समाज में पत्रकारों की छवि धूमिल होने से बच सके।

जनकारी के अनुसार पूर्व में वसूली मामले में विनय उपाध्याय को आईबीसी 24 न्यूज चैनल से भगा दिया गया था, कारण रामनगर आरटीओं चेक पोस्ट में पदस्थ आरक्षक ऋतु शुक्ला से लाखों रूपए की मांग एवं महीना बंधवाने के लिए पहुंचे थे। जिस पर चेक पोस्ट प्रभारी ऋतु शुक्ला ने इसकी शिकायत पुलिस अधीक्षक अनूपपुर से की थी, जहां शिकायत के बाद आईसीसी 24 न्यूज चैनल ने मामले को संज्ञान में लेते हुए तत्काल विनय उपाध्याय को भगा दिया था। पूरे मामले में कोतमा विधानसभा के दो दर्जन से अधिक पत्रकारों ने कोतमा थाना पहुंच शिकायत दर्ज करवाते हुए कार्यवाही की मांग की है। जिससे पत्रकार साफ और स्वच्छ छवि में रहकर अपनी पत्रकारिता कर सके। 

 

वसूली भाई ने लोगो के सामने विनय नामक व्यक्ति के रूप में खुद ही रख दी अपनी पहचान

कोई टिप्पणी नहीं

वसूली भाई के कारनामे, आईबीसी से भगाने के बाद पब्लिक एप का नाम कर रहा बदनाम

इंट्रो- कोतमा सहित आसपास के थाना क्षेत्र में निवास करने वाले लोगो को वसूली भाई का नाम की पहचान का इंतजार था, जहां वसूली भाई को आपके सामने लाने के लिए जिस रणनीति के तहत जाल बिछाया गया, उस जाल में वसूली भाई इस कदर फंसा कि बौखलाते हुए इसके पूरे शरीर से पसीना छज्ञेड़ दिया और तेवर में आते ही लोगो के सामने अपनी पहचान स्वयं लाकर रख दी। कोतमा में तथाकथित फर्जी पत्रकार विनय नाम से जाना वा पहचाना जाता है, जिसे कई लोग द्वारा इसे वसूली भाई के नाम की संज्ञा से नवाजा गया है। वसूली के मामले में इस आईबीसी 24 न्यूज चैनल से भगा दिया गया था, कारण रामनगर आरटीओं चेक पोस्ट में पदस्थ आरक्षक ऋतु शुक्ला से लाखों रूपए की मांग एवं महीना बंधवाने की शिकायत पर ऋतु शुक्ला ने रामनगर थाना सहित पुलिस अधीक्षक अनूपपुर से लिखित शिकायत की गई थी। आईबीसी चैनल से हटाने के बाद वसूली के लिए इसने सोशल मीडिया के पब्लिक एप का सहारा लिया। 

यह रही खबर की सत्यता, छुड़ाने वाला थाना के सीसी टीवी में है कैद

कोतमा थाना अंतर्गत बंजारा होटल के पास 17 जून को मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने कार क्रमांक एमपी 18 जेडसी 6696 में 275 लीटर डीजल का अवैध परिवहन करने पर कार चालक अमर सिंह पिता महेन्द्र सिंह निवासी वार्ड 7 ब्यौहारी जिला शहडोल को पकड़ते हुए कार जब्त किया गया। कार्यवाही के दौरान कार चालक ने कोतमा थाना में पदस्थ आरक्षक चक्रधर तिवारी को आॅन ड्यूटी वर्दी उतरवाने की धमकी दे डाली थी, जिसे बचाने के लिए विनय नामक वसूली भाई आरोपी को छुड़ाने थाना पहुंचे थे। मामले में 18 जून की रात 8 बजकर 44 मिनट में कोतमा थाना प्रभारी सुन्द्रेश मरावी से जानकारी ली गई थी, जहां उन्होने 275 लीटर के अवैध परिवहन पर कार्यवाही करने तथा आरोपी को छुड़ाने के लिए पहुंचे एक शख्स के बारे में बताया, लेकिन उसका नाम नही बताया गया था, साथ ही कार चालक पर पुलिस कर्मी के वार्दी उतारने की धमकी पर कार्यवाही की बात कही गई थी। जिस पर न्यूज अनूपपुर ने उस अज्ञात व्यक्ति का नाम की जगह वसूली भाई के नाम पर से खबर का प्रकाशन किया गया था। पूरे मामले में वसूली भाई भूल गया था कि कोतमा थाना में लगे सीसी टीवी में सुबह 10 से 12 के बजे में यह शख्स कैद हो चुका है। जहां आरोपी अमर सिंह द्वारा वसूली भाई के पहुंचते ही उसका पैर भी पड़ा था। न्यूज अनूपपुर खबर की विश्वसनीयता पर सवाल उठाने वाले जिले सहित कोतमा के हर लोग थाना में लगे सीसीटीवी फुटेज में आराम से पूरा नजारा देख सकते है।

वसूली भाई के नाम पर खुद रखी अपनी पहचान

पूरे मामले मे न्यूज अनूपपुर द्वारा 18 जून को प्रकाशित की गई खबर में किसी भी व्यक्ति का नाम नही था, जहां थाना प्रभारी कोतमा ने उस शख्स का नाम बताए जाने पर उसे वसूली भाई की संज्ञा दी गई थी। लेकिन खबर प्रकाशन के बाद वसूली भाई नामक शीर्षक से कोतमा सहित आसपास के थानों में अपनी पहचान बनाने वाला शख्स तिलमिला उठा और अपने ही पैर में कुल्हाड़ी मारते हुए खुद ही लोगो के सामने अपनी पहचान विनय के रूप में लाकर रख दी। 

जोशी ने वसूली करने आए इस शख्स को घर में बंद कर किया गाल चटक लाल

कोतमा नगर में चर्चाओं पर सुर्खिया बंटोरने वाला वसूली भाई जो कि कोतमा नगर के वार्ड क्रमांक 8 में निवास करने वाले जोशी के घर वसूली के लिए पहुंचे थे, जहां वसूली करने पर जोशी ने बकायदा इसके गाल पर अपना हाथ साफ करते हुए उसे अपने घर में बंद कर पुलिस को फोन करने ही जा रहा था, जिसके बाद कोतमा के कई पत्रकारों ने मौके पर पहुंचकर उसे जोशी के चंगुल से छुड़ाया और वसूली भाई की लाज बचाई गई। यह पूरा वाक्या पूरे कोतमा नगर में कई महीनों तक चर्चाओं में रहा।

सम्मानित व्यक्ति विनोद का मामला

जानकारी के अनुसार अवैध रेत उत्खनन वा परिवहन में विनोद नामक व्यक्ति ने पुलिस अधीक्षक से झूठी खबर के प्रकाशन की शिकायत लिखित रूप से कराई गई, जिसकी जांच शुरू हुई और अपनी ही जांच में उलझता देख विनोद ने अपने पैर खुद की जांच से खिंचना शुरू कर दिया। जहां जांचकर्ता अधिकारी तत्कालीन अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शिव कुमार सिंह सम्मानित व्यक्ति विनोद को दोबारा बयान के लिए दो बार नोटिस जारी की गई, लेकिन अपने आपको फंसता देख विनोद से अपना पैर पीछे खिंच लिया।

बनिया की कलम टूटते ही पहुंचा गुरू महराज के शरण में 

पूरे मामले में वसूली भाई के बनिया की कलम इस कदम टूटी की उसे अपने गुरू महराज की शरण में जाना पड़ा, जहां गुरू महराज ने अपनी कलम से उसे कुछ ज्ञान अंश देते हुए एक प्रोजेक्ट तैयार कर उसकी ओर समर्पित किया गया, लेकिन गुरू का ज्ञान भी वसूली भाई के लिए घातक साबित हुआ। क्योकि उसके ही गुरू ने कोतमा के वसूली भाई को सामने लाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और न्यूज अनूपपुर का साथ दिया गया। दूसरे की उधारी कलम पर आश्रित वसूली भाई का लगातार उनके कारनामों से उनकी पैंट ढ़ीली होने के बाद लगातार उसे चढ़ाने की कोशिश में वसूली भााई को लगातार मेहनत करनी पड़ रही है। वैसे न्यूज अनूपपुर की विश्वसनीयता बरकार है, जिसे चाह कर फर्जी तथाकथित और दूसरे की लेखनी पर आश्रित रहने वाले वसूली भाई द्वारा लगाए गए हर आरोप की सत्यपता पूरा जिला जानता है।

17 को आधा दर्जन पत्रकार ने जमकर था लताड़ा 

पब्लिक एप को बदनाम करने वाले इस शख्स पर ताजा तरीन मामला 17 जून की रात 9.30 से 10 बजे के बीच सामने आया था, जहां कोतमा नेशनल हाईवे मंे संचालित गुरू कृपा ढ़ाबा में वसूली भाई को आधा दर्जन भर पत्रकारों ने जमकर लताड़ा था, जहां इस लताड़ पर आसपास भीड़ एकत्रित हो गई थी, और भीड़ के सामने हंसी का पात्र बन गया था। जिसके बाद वसूली भाई ने कई पत्रकारों के पैर पड़ कर अपनी गलती मानते हुए माफी मांगा गया था। इनकी हर कहानी उधारी की कलम पर उधारी की लेखनी वा गुरू महराज की कृपा भी इन दिनों काम नही आ रही है। 

नए-नए कारनामे आ रहे सामने

18 जून को उक्त तथाकथित बनिया की कलम लिए हुए कोतमा थाना प्रभारी द्वारा डीजल मामले में कार चालक के खिलाफ कार्यवाही कर दी थी, जिस पर वसूली भाई ने 18 जून को को राखड़ के ओव्हर लोड़ 7 वाहनों को पुलिस ने जब्त किया शीर्षक नाम से खबर का प्रकाशन पीडीपीएफ में चलने वाले स्थानीय अखबार मंे प्रकाशन किया गया। जहां फर्जी पत्रकार को यह पता नही था कि मोटर व्हीक्ल एक्ट में ओव्हर लोड़ वाहनों, सीट बेल्ट, हेलमेट ना लगाने वाले मामले में सिर्फ चालानी कार्यवाही का प्रवाधान है। जिस पर कोतमा थाना प्रभारी द्वारा सभी वाहनों की नियमानुसार चालानी कार्यवाही कर उसे छोड़ा गया था, लेकिन वसूली भाई ने थाना प्रभारी सुन्द्रेश मरावी पर दवाब बनाने के लिए उसी पीडीएफ अखबार में कोतमा पुलिस पर चालानी कार्यवाही कर छोड़ने का आरोप संबंधी खबर का प्रकाशन कर अपने आप को हंसी का पात्र साबित कर दिया था। वसूली भाई के मामले इतने बड़े है जिसपर कई एपिसोड के ही लाकर इनका पूरा काला चिठ्ठा खोला जाएगा।

इनका कहना है

कार से 275 लीटर डीजल का अवैध परिवहन कर चालक को पकड़ा गया था, जिसे छुड़ाने के लिए आप लोगो में से एक आया था, जिसे नाम मै नही जानता हॅू। 

सुन्द्रेश मरावी, थाना प्रभारी कोतमा

 

विश्वास क्लीनिक के अवैध संचालन पर भाजायुमो के जिलाध्यक्ष ने दर्ज कराई शिकायत, कार्यवाही की मांग

कोई टिप्पणी नहीं

अनूपपुर। जिले में अवैध क्लीनिकों पर कार्यवाही करने के सख्त निर्देश के बावजूद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा कार्यवाही करने से कोताही बरती जा रही है, जहां भाजपा युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष रवि राठौर ने लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री राजेन्द्र शुक्ला को पत्र लिखकर जैतहरी के आदर्शग्राम शिवनी में संचालित समीर विश्वास के द्वारा अवैध क्लीनिक के संचालन पर कार्यवाही की मांग की है। 

जानकारी के अनुसार रविन्द्र राठौर ने पत्र में लेख किया है कि जैतहरी तहसील अंतर्गत ग्राम पंचायत शिवनी के आदर्शग्राम में संचालित अवैध क्लीनिक का संचालन समीर विश्वास द्वारा किया जा रहा है। जहां मरीजो की जान से खिलवाड़ करने के साथ उपचार के नाम पर मोटी रकम वसूली जाती है। रविन्द्र राठौर ने आरोप लगाया है कि पूर्व में गलत उपचार के दौरान कुछ लोगो की मौत भी हो चुकी है, इसके खिलाफ न्यायालय में प्रकरण भी चल रहा है साथ ही पूर्व में स्वास्थ्य विभाग के द्वारा उक्त अवैध क्लीनिक पर कार्यवाही की जा चुकी है साथ ही गलत इलाज पर क्षेत्र की जनता से लगातार शिकायते भी प्राप्त हो रही है। जिस पर समीर विश्वास द्वारा संचालित अवैध क्लीनिक की जांच कराते हुए कार्यवाही की मांग की गई। 


नपा के लापता ट्रैक्टर चालक बृजेन्द्र राठौर को कलेक्ट्रेट कार्यालय में किया गया सम्बद्ध

कोई टिप्पणी नहीं

 

खबर का असर ..........

अपर कलेक्टर ने नपाधिकारी को आदेश कर तत्काल उपस्थिति दर्ज कराने जारी किए आदेश

अनूपपुर। नगर पालिका अनूपपुर में दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी बृजेन्द्र राठौर के बीते 7 माह से लापता होने की खबर के प्रकाश के बाद कलेक्टर आशीष वशिष्ठ ने मामले को संज्ञान में लेते हुए नगर पालिका से उक्त चालक के संबंध में जानकारी एकत्रित की गई थी, जहां नगर पालिका द्वारा कलेक्टर को ही भ्रमित करते हुए उसे संभागीय कार्यालय में अटैच होने संबंधी आदेश का हवाला दिया गया। जबकि उक्त चालक संभागीय कार्यालय नगरीय प्रशासन शहडोल से भी लापता था। जिसके बाद उसकी खोजन बीन की गई, जहां चालक नगरीय प्रशासन के संभागीय कार्यालय में पदस्थ बर्खास्त चुके अधिकारी का बीते 7 माह से प्रावईट वाहन चला रहा था। वहीं नगर पालिका अनूपपुर को इस संबंध में पूरी जानकारी होने के बाद भी चालक का वेतन का भुगतान किया गया। मामले को संज्ञान में लेते हुए कलेक्टर के निर्देशन पर अपर कलेक्टर द्वारा उक्त चालक बृजेन्द्र राठौर की खोजखबर निकालते हुए 18 जून को कार्य की सुविधा एवं प्रशासनिक दृष्टिकोण से चालक बृजेन्द्र राठौर, कार्यालय नगर पालिका अधिकारी अनूपपुर को आगामी आदेश तक कलेक्टर कार्यालय अनूपपुर में सम्बद्ध करते हुए निर्देशित किया गया है कि वे अपनी उपस्थिति तत्काल दर्ज करांए।

जानकारी के अनुसार नगर पालिका अनूपपुर द्वारा ट्रैक्टर चालक के रूप में दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी बृजेन्द्र राठौर की भर्ती वर्ष 2010 में स्वच्छता कार्यक्रम के तहत की गई थी, जिसके बाद माह अक्टूबर 2023 में उक्त कर्मचारी को संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन विभाग शहडोल में नियम विरूद्ध तरीके से अटैच कर दिया गया था। अटैच के कुछ महीने बाद ही उक्त कर्मचारी संयुक्त संचालक कार्यालय शहडोल से भी लापता है। उक्त कर्मचारी के लापता होने के बाद से नगर पालिका अनूपपुर के लेखा शाखा द्वारा प्रत्येक माह उसका उसके वेतन का भुगतान भी किया जा रहा था। लेकिन उक्त कर्मचारी के संबंध में नपा के किसी भी अधिकारी एवं कर्मचारी को ज्ञात नही है। एक तरफ जिस कर्मचारी को नपा में ट्रैक्टर चालक के रूप रखा गया था, जिसके लापता होने के बाद ट्रैक्टर चालक की कमी को देखते हुए बीते 7 दिन पूर्व नपा अनूपपुर द्वारा 400 रूपए प्रतिदिन की दर से प्रवीण गोड़ उर्फ छोटू को ट्रैक्टर चालक में रखा लिया गया था, लेकिन नगरीय प्रशासन के संभागीय कार्यालय शहडोल से उक्त लापता चालक बृजेन्द्र राठौर की पतासाजी नही की गई। पूरे मामले को कलेक्टर ने संज्ञान में लिया और चालक की खोजबीन के बाद उसकी पतासाजी करते हुए उसे कलेक्टर कार्यालय में सम्बद्ध किया गया। 


कार रोककर शराब पीने के लिए जबरन पैसे की मांग, मना करने पर कार में की तोड़फोड़

कोई टिप्पणी नहीं

अनूपपुर। रामनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत आमाडांड रोड़ में एक व्यक्ति द्वारा कार को रोकते हुए शराब पीने के लिए पैसे की मांग करते हुए विवाद करने एवं पैसे देने से मना करने पर डंडे से कार में तोड़फोड़ करने तथा डंडे से मारपीट किए जाने की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी मोनू बसोर के खिलाफ धारा 341, 327, 294, 323, 506 के तहत मामला दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया गया है।

मामले की जानकारी देते हुए फरियादी सुरेश कुमार सिंह गोंड पिता जुम्मन सिहं गोंड उम्र 42 वर्ष निवासी वार्ड क्रमांक 3 ग्राम मोरगा थाना पोडी जिला एमसीबी (छग) में रहता हूँ। 17 जून को मैं अपने साथी तीरथ सिंह गोंड के साथ अपनी कार क्रमांक सीजी 07 एपी 7251 से ग्राम माढा कोट थाना मरवाही दशगात्र कार्यक्रम में शामिल होने जा रहा था। जैसे ही शाम लगभग 6 बजे आमाडांड पहुंचा तो अंकित फर्नीचर दुकान के आगे मेन रोड में एक व्यक्ति हाथ में डंडा लेकर बीच रोड में खड़ा होकर रास्ता रोकते हुए कार रोकवाया और मुझसे शराब पीना के लिए जबरन पैसा मांगने लगा, मेरे द्वारा मना करने पर मुझसे विवाद कर अपशब्दो का प्रयोग करने लगा तथा मेरी कार में डंडे से मारकर कार के सामने कांच को तोड दिया तथा मेरे साथ हाथ मुक्का व लाठी से मारपीट करने लगा। मोहल्ले के लोगो ने उस व्यक्ति का नाम मोनू बसोर बताया है। जहां शिकायत पर पुलिस ने आरोपी मोनू बसोर के खिलाफ मामला दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया गया है।


सीमाकंन करने गए आरआई पटवारी से अभद्रता, शासकीय अभिलेख छीनने का प्रयास

कोई टिप्पणी नहीं

मामला कोतमा तहसील के ग्राम उरतान का, पुलिस ने दर्ज किया मामला 

अनूपपुर। कोतमा थाना क्षेत्र ग्राम उरतान में सीमांकन करने गए आरआई वा पटवारी से अपशब्दो का प्रयोग करने के साथ पंचनामा को फाड़ देने एवं बाइक से चाभी निकालते हुए शासकीय अभिलेखों वा दस्तावेजों को छीनने का प्रयास करते हुए शासकीय कार्य में बाधा उत्पन्न करने की शिकायत एवं तहसीलदार कोतमा के जांच प्रतिवेदन पर पुलिस ने आरोपी विष्णु सिंह गोड़ पिता दशरथ सिंह गोंड़ निवासी उरतान के खिलाफ धारा 294, 353, 186 के तहत मामला दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया गया है।

मामले की जानकारी के अनुसार कोतमा तहसील द्वारा न्यायालय के प्रकरण क्रमांक 0088/अ- 12/23-24 दिनांक 6 जून 2024 है। जिसके अंतर्गत ग्राम उरतान में आवेदक विक्रम सिंह पिता स्व. रामनाथ सिंह गोंड़ की खसरा नंबर 25, 186, 1356, रकवा क्रमशः 0.287, 0.729, 0.755 नं. 186 में आरआई सूरज भान सिंह टांडिया एवं पटवारी रमेश केवट जैसे ही सीमांकन करने हेतु पहुंचे। जहां विष्णु सिंह गोंड़ पिता दशरथ सिंह गोंड निवासी उरतान द्वारा वहां पहुंचकर अपशब्दो का प्रयोग करने लगा। उक्त गाली गलौज का पंचनामा बनाने के दौरान विष्णु सिंह गोड़ ने पंचनामा फाड़ दिया एवं हल्का पटवारी उरतान के शासकीय अभिलेख जैसे नक्शा, खसरा व अन्य दस्तावेजों को छीनने का प्रयास किया। हल्का पटवारी अपना अभिलेख बचाने लगे तो विष्णु सिंह गोंड ने बाइक छीनने का प्रयास किया जिसमें असफल होकर बाइक की चाभी लेकर भाग गया। उक्त कृत्य से शासकीय कार्य (सीमांकन) में बाधा उत्पन्न किया गया, जिसके कारण सीमांकन पूरा नही हो सका। पूरे मामले की सूचना आरआई एवं पटवारी द्वारा तहसीलदार कोतमा को दी गई सूचना पर तहसील कोतमा के प्रतिवेदन कोतमा थाना प्रभारी को दिया गया। जिस पर पुलिस ने विष्णु सिंह गोड़ के खिलाफ मामला दर्ज कर मामले को जांच में लिया गया है।


© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR