Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

देश - विदेश

Desh - Videsh

BOLLYWHOOD

BOLLYWHOOD

JOB & EDUCTION

JOB & EDUCTION

Tech

TECHNOLOGY

CRIME

CRIME

मध्य-प्रदेश

छत्तीसगढ़

Videos

Videos

राजनीति

BOLLYWOOD

टेक्नोलॉजी

बाइक सवारों से लूट करने वाले 3 आरोपी गिरफ्तार, 2 फरार

कोई टिप्पणी नहीं

राजेन्द्रग्राम पुलिस ने घटना में प्रयुक्त कार किए जब्त

अनूपपुर। थाना राजेन्द्रग्राम क्षेत्र अंतर्गत बंजारी मंदिर धर्मदास पुल के पास दो बाइक सवार से कार सवार चार लोगो द्वारा मारपीट करते हुए 3 हजार 500 रूपए एवं मोबाइल फोन की लुट की घटना को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों जिनमें मनोज पिता सूरज सिंह बंजारा उम्र 23 वर्ष निवासी गिरवी एवं सोनू पिता संतकुमार महेश्वरी उम्र 21 वर्ष निवासी ग्राम मौहारी थाना राजेन्द्रग्राम सहित एक 17 वर्षीय नाबालिग को गिरफ्तार करते हुए उनके कब्जे से घटना प्रयुक्त कार को जब्त करते हुए आरोपियों के खिलाफ धारा 309(6), 3(5) बीएनएस के तहत मामला दर्ज करते हुए न्यायालय में पेश कर दिया गया है। वहीं दो आरोपी अब भी फरार है, जिनकी पुलिस पता तलाश में जुटी हुई है।
मामले की जानकारी देते हुए राजेन्द्रग्राम थाना प्रभारी वीरेन्द्र बरकड़े ने बताया कि ओमप्रकाश पिता लालसिंह गोड़ उम्र 30 वर्ष निवासी कपरिया चौकी वेंकटनगर ने 11 जुलाई की रात भंाजा लाल सिंह की तबियत अचानक खराब होने पर दो बाइक में अपने चाचा शंकर सिंह, मामा रामसिंह एवं नाना नोहर सिंह के साथ ग्राम हवेली जा रहे थे। जहां रास्ते में रात लगभग 10.30 बजे जैतहरी-राजेन्द्रग्राम रोड़ स्थित बैहार घाट पार कर बंजारी मंदिर के कार क्रमांक एमपी 65 जेडए 7862 उनका रास्ता रोककर कार में सवार चार लोगो ने लूटपाट की घटना को अंजाम दिया था। शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी पतातलाशी की गई, जहां 14 जुलाई को मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने ग्राम गिरवी से तीन आरोपियों जिनमें एक नाबालिग था को गिरफ्तार करते हुए उनके कब्जे से घटना में प्रयुक्त कार को जब्त कर थाना ले आये। जहां पूछताछ के दौरान तीनों आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल किया। जिसके बाद पुलिस ने उन्हे न्यायालय में पेश किया गया। वहीं अब भी दो आरोपी फरार बताये जा रहे है, जिनकी पतासाजी की जा रही है।

Anuppur News : 19 महीनों में गांजा के 40 प्रकरणों में 2.5 टन गांजा जब्त

कोई टिप्पणी नहीं

गांजे की कार्यवाही में शहडोल जोन में अनूपपुर 1 नंबर पर, 10 चार पहिया एवं 7 बाइक जब्त

अनूपपुर। छत्तीसगढ़ का सीमावर्ती क्षेत्र वा मध्यप्रदेश का अंतिम जिला अनूपपुर से गांजा की तस्करी बड़े पैमाने पर इसी रास्ते से किया जाता है। उड़ीसा से छत्तीसगढ़ के रास्ते होकर अनूपपुर जिले में पहुंचने वाले गांजे के बड़ी खेप को खपाने के लिए जिले के विभिन्न थाना क्षेत्र के रास्ते से होकर अन्य जिलो में पहुंचा दी जाती है। जिस पर अनूपपुर पुलिस द्वारा लगातार गांजे की बड़ी खेप को पकड़ा गया है, जिसका आकड़ा चौकाने वाला है। जिसमें 19 महीने (डेढ़ वर्ष) के अंदर 40 प्रकरण जिले में सामने आये है। जिसमें अब तक  2.5 टन गांजा पकड़ा जा चुका है। जो नशे के कारोबारियों के लिए एक बड़ी खेप है। शहडोल जोन में अनूपपुर जिला गांजे की कार्यवाही एवं मात्रा में पहले नंबर पर है।

हैरान कर देने वाले आंकड़े आए सामने

जिले में 30 नवम्बर 2022 का जितेन्द्र सिंह पवॉर द्वारा पुलिस अधीक्षक अनूपपुर का प्रभार लिया गया। जिसके बाद नशे के खिलाफ चलाए गए अभियान के तहत वर्ष 2023 में 30 प्रकरणों में 1716.191 किलो एवं वर्ष 2024 में अब तक 10 प्रकरणों में 136.294 किलो ग्राम गांजे की बड़ी खेप पकड़ा गया है। जिसकी बाजरू कीमत 2 करोड़ 27 लाख 11 हजार 940 रूपए आंकी गई है। वहीं वर्ष 2022 में गांजा तस्करों के खिलाफ की गई कार्यवाही में 1 टन गांजा जब्त किया जा चुका है। पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह पवॉर ने बताया कि गांजा तस्करों का रूट बना हुआ है, जहां तस्करों द्वारा उड़ीसा-सोनपुर-ब्रम्हपुरा, छ.ग.-अंबिकापुर-मनेन्द्रगढ़-पेण्ड्रा-गौरेला होते हुए अनूपपुर-जैतहरी-अमरकंटक, शहडोल-अमलाई-धनपुरी, उमरिया-पाली-मानपुर, रीवा-गोविन्दगढ़, कटनी-बड़वारा तक गांजे की बड़ी खेप पहुंचाई जाती है।

10 चार पहिया वा 7 बाइक हुई जब्त

बीते डेढ़ वर्षो में अब तक उड़ीसा से छत्तीसगढ़ के रास्ते लाए गए गांजे की बड़ी खेप को अनूपपुर, कोतमा, भालूमाड़ा, चचाई, करनपठार में 30 प्रकरण दर्ज है। जिनमें लगभग 10 चार पहिया वाहन एवं 7 बाइक को गांजा की खेप ले जाते समय पकड़ा गया है। जिसमें 62 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। जानकारी के अनुसार दूसरे जिले में गांजे की तसकरी करने के लिए अनूपपुर जिला एक आसान रास्ता माना जा रहा है। जिसके कारण कोतमा, अनूपपुर, भालूमाड़ा, चचाई, करनपठार, राजेन्द्रग्राम एवं जैतहरी थानों को पार कर गांजा तस्कर शहडोल, सतना, रीवा, जबलपुर, सीधी, सिंगरौली जिलो में गांजे की खेप पहुंचाई जाती है। 

उड़ीसा से आती है गांजा की बड़ी खेप

जिले के अनूपपुर, भालूमाड़ा, कोतमा, राजेन्द्रग्राम, करनपठार, जैतहरी थाने में अब तक पकड़ाए गए गांजे की खेप को आरोपियों ने उड़ीसा से छत्तीसगढ़ के रास्ते होते हुए अनूपपुर जिले में प्रवेश करते है, वहीं अनूपपुर पुलिस ने मादम पदार्थ गांजा के खिलाफ की गई कार्यवाही में कई ग्रामीण क्षेत्रों में छापामार कार्यवाही करते हुए भारी मात्रा छिपाए गए गांजे के स्टॉक को जब्त करने कामयाब हो पाई है। वहीं गांजा तस्कारी के युवाओं की सहभागिता ज्यादा है। जो ज्यादा आमदनी के चक्कर में नए-नए वाहनों में प्रेस या राजनीतिक पाटियों का मोनो लगाकर पुलिस की आंखों में धूल झोंक कर अपने मंसूबों में कामयाब भी हो जाते है।

अफीम की खेती में तीन प्रकरण है दर्ज

पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र ङ्क्षसह पवॉर ने बताया कि गांजा तस्करी की जहां बड़ी खेप पकड़ी गई है। वहीं अफीम की खेती करने पर भी 15 मार्च 2023 में 3 प्रकरण करनपठार थाना में दर्ज है। जिसमें अफीम के हरे पौधे कुल वजन 273 किलो 679 ग्राम अनुमानित कीमत 15 लाख 25 हजार को जब्त कर तीनों प्रकरणों में तीन आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए कार्यवाही की गई है। इसके साथ ही नशीली दवा नाईट्राजिपॉम टेबलेट के 1 प्रकरण में 29 पत्ता कुल 290 टेबलेट कीमत 1 हजार 885 रूपए को जब्त कर दो अरोपियों के खिलाफ कार्यवाही की गई है।

इनका कहना है

जब तक अंतर्राज्यीय टॉस्कफोर्स का गठन नही किया जाता तब तक तस्करी को नही रोका जा सकता है। इस संबंध में प्रयास जारी है।
जितेन्द्र सिंह पवॉर, पुलिस अधीक्षक अनूपपुर

एसपी ने महिला की संदिग्ध मौत का चंद घंटो में कर दिया खुलासा

कोई टिप्पणी नहीं

दो प्रेमियों से प्रताडि़त होकर महिला ने लगाई फांसी, दोनो गिरफ्तार

अनूपपुर। कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत नगर के वार्ड क्रमांक 13 खम्परिया तालाब के पास किराए के मकान में निवास करने वाली 27 वर्षीय महिला की संदिग्ध मौत का पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह पवॉर ने चंद घंटो में खुलासा कर दिया है। मामला संगीन होने के साथ ही परिजनों द्वारा हत्या की आशंका जताए जाने के बाद कोतवाली थाना प्रभारी अरविंद जैन एवं उपनिरीक्षक संजय खल्को द्वारा छोटी सी छोटी कड़ी को जोड़ते हुए दो प्रेमियों के बीच लगातार प्रताडि़त होकर फांसी लगाकर आत्महत्या किए जाने के मामले में आरोपी संकल्प सिंह पिता गोविंद सिंह परिहार निवासी ग्राम बरबसपुर एवं सतन प्रजापति पिता धनीराम प्रजापति निवासी ग्राम दमना  के खिलाफ भारतीय न्याय संहिता बीएनएस 2023 की धारा 108, 238 एवं 3 (5) के तहत मामला दर्ज कर दोनो आरोपी गिरफ्तार कर लिया गया है।

यह था मामला 

पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह पवॉर ने बताया कि महिला विन्देश्वरी उर्फ नेहा राठौर पति सौरभ शिवहरे की संदिग्ध मौत पर घटना स्थल निरीक्षण करते हुए शव को पीएम के लिए भेजा गया, जहां पीएम में मौत का कारण फांसी लगाने के कारण पाया गया। जिसके बाद कोतवाली निरीक्षक अरविंद जैन एवं उपनिरीक्षक संजय खल्कों ने मृतिका से जुड़े पुराने मामले एवं सायबर सेल की मदद से नये कड़ी को जोड़ा कर देखा गया। जहां पता चला कि मृतिका विन्देश्वरी राठौर निवासी कोलमी का विवाह वर्ष 2015 में फुनगा निवासी सौरभ शिवहरे से हुआ था। जिसके बाद वर्ष 2020-21 में विन्देश्वरी अपने पति से अलग हो गई थी और अनूपपुर में रहने लगी थी। 

एक की दुकान में काम करते समय हुआ था प्रेम

पति से अलग रहने के बाद विन्देश्वरी उर्फ नेहा नितिन कपड़ा की दुकान में काम करने लगी थी, जहां उसकी दोस्ती दुकान में काम करने वाले सतन प्रजापति उम्र 28 वर्ष से हुआ और दोनो एक दूसरे से प्रेम करने लगे थे। लेकिन कुछ दिनों बाद विन्देश्वरी राठौर की दोस्ती संकल्प सिंह परिहार से हो गई थी, जहां विन्देश्वरी की नजदीकी संकल्प से बढऩे पर सतन प्रजापति लगातार उसपर दवाब बनाते हुए प्रताड़ित किए जाने विन्देश्वरी परेशान थी। 

संकल्प पर लगाया था दुष्कर्म आरोप

मृतिका विन्देश्वरी राठौर की दोस्ती संकल्प सिंह से थी, जहां मृतिका ने 15 मार्च को उसके खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाया था, जिस पर संकल्प के खिलाफ धारा 376, 376(2)(एन), 294, 506 के तहत मामला दर्ज किया गया था। जहां प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है, जिस संबंध में मृतिका की गवाही न्यायालय में होनी थी, लेकिन संकल्प सिंह परिवाहर उक्त प्रकरण में खुद के पक्ष में बयान बदलने हेतु लगातार विन्देश्वरी राठौर को डरा धमकाकर प्रताड़ित किया जा रहा था। 

दोनो की प्रताडऩा से महिला ने लगा ली थी फांसी

पूरे घटना क्रम में सतन प्रजापति एवं संकल्प सिंह से प्रताड़ित होकर 11 एवं 12 जुलाई की दरम्यिानी रात रमाकांत पांडेय के किराये के मकान में दुपट्टा का फंदा बनाकर फांसी लगा ली थी, जहां फांसी लगाने से पहले मृतिका ने सतन प्रजापति एवं संकल्प सिंह को फांसी लगाकर आत्महत्या करने की जानकारी भी दी थी। जिसके बाद सतन प्रजापति तत्काल मृतिका विन्देश्वरी के घर पहुंचा, जहां विन्देश्वरी अपने कमरे में फांसी पर लटकी हुई थी, जिस सतन प्रजापति ने चाकू से दुपट्टे को काट कर शव को जमीन में लेटा कर भाग गया था। 

इनका कहना है

मामले की जांच के दौरान दो लोगो से मृतिका का संबंध होना तथा दोनो की प्रताडऩा से परेशान होकर महिला ने फांसी लगाकर आत्महत्या किया जाना पाया गया है। दोनो ही आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर दोनेा आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

जितेन्द्र सिंह पवॉर, पुलिस अधीक्षक अनूपपुर


Anuppur News : फर्जी 500 के नोट बनाने, चलाने और रखने के अपराध में आरोपीगण गए जेल

कोई टिप्पणी नहीं

मामला वर्ष 2017 में जैतहरी थाना क्षेत्र का, 500 के जब्त हुए थे 437 नकली नोट

अनूपपुर। न्यायालय प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश अनूपपुर पंकज जायसवाल द्वारा 11 जुलाई को सत्र प्रकरण क्रमांक 23/18, थाना जैतहरी के अपराध क्रमांक 331/2017 धारा 489(क), 489(ख), 489(ग), 489(घ) भादवि के आरोपीगण मथुरा प्रजापति, पारसलाल यादव, रूपलाल पुरी, भुजबल मरावी, अनिलशरण दोशवा सभी को धारा 489(ख) के अपराध में 10 वर्ष का कठोर कारावास और 2 हजार का जुर्माना से दंडित किया गया तथा धारा 489(ग) के अपराध में 5 वर्ष का कठोर कारावास और 2 हजार के अर्थदंड से दंडित किया गया है। कठोर कारावास के दंडादेश को न्यायालय द्वारा साथ-साथ भोगे जाने हेतु निर्देशित किया,  मामले में राज्य की ओर से पैरवी जिला अभियोजन अधिकारी हेमंत अग्रवाल  द्वारा की गई।  
मामले की जानकारी के अनुसार 1 नवम्बर 2017 को सुबह फरियादी अंशु प्रजापति अपनी किराना दुकान में था। सुबह 6.30 बजे ग्राम छातापटार का मथुरा प्रजापति उसकी दुकान में आया और 500 का नोट क्रमांक 9केएम700868 देकर 20 रूपए का सामान राजश्री, बी.डी. व पंजाबी तडक़ा लिया। उसने उसे 480 रूपए वापस दिया। उसी दिन शाम को उसने देखा कि मथुरा प्रजापति द्वारा दिया गया 500 रूपए का नोट का कागज मोटा था एवं दाएं भाग में 500 अंक में लिखे भाग के ऊपर गांधी जी का फोटो नहीं दिखाई दे रहा था। असली नोट से मिलाने पर उक्त 500 का नोट नकली था, जिसकी शिकायत उसके द्वारा जैतहरी थाने में की गई। शिकायत पर थाने में अपराध क्रमांक 331/17 पर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज की गई, जैतहरी पुलिस द्वारा विवेचना के दौरान मथुरा प्रजापति को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की गई, उसके कब्जे से एक और 500 का नकली नोट जब्त किया गया, आरोपी मथुरा प्रजापति द्वारा बताया गया कि आरोपी पारस लाल उसे चलाने के लिये दिया था, पारसलाल को भी पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया। पूछताछ पर उसके कब्जे से 500-500 के 34 नकली नोट जब्त किये गए। पारसलाल द्वारा नकली नोट आरोपी रूपलाल पनिका द्वारा दिए जाना बताया, रूपलाल पनिका से पूछताछ पर उसने अपना अपराध स्वीकार किया, उसके कब्जे से 500-500 के 44 नकली नोट जब्त किये गए। आरोपी रूपलाल पनिका द्वारा नकली नोट आरोपी भुजबल से लेना बताया गया, उक्त जानकारी के आधार पर पुलिस द्वारा भुजबल से पूछताछ की गई और उसके कब्जे से 140 नग नकली 500 के नोट पाए गए। भुजबल द्वारा नकली नोट अन्य आरोपी अनिल शरण से प्राप्त होना बताया गया, अनिल शरण को भी गिरफ्तार किया गया और उसके कब्जे 197 500 के नकली नोट जब्त किये गए, अनिल शरण के कब्जे से ही नोट बनाने में प्रयोग किया गया प्रिंटर, कम्प्यूटर आदि सामग्री जब्त की गई। आरोपी द्वारा बल्देव सिंह को भी नकली नोट देना बताया, बल्देव सिंह के कब्जे से भी 20 नग 500 के नकली नोट जब्त किए गए। आरोपीगण से जब्त नकली नोटों को जांच हेतु एसबीआई बैंक एवं पुणे फॉरेंसिक विभाग को भेजा गया, जिनकी रिपोर्ट के आधार पर आरोपीगण से जब्त नोट फर्जी पाए गए। नकली नोट बनाने में प्रयुक्त प्रिंटर, कटर, कम्प्यूटर आदि सामग्री को जांच हेतु भेजा गया, मौके पर ही अधप्रिंट व कटे हुए नकली नोट भी प्राप्त हुए उन्हें जिसे भी जब्त किया गया। सभी आरोपीगण को न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया, सम्पूर्ण विवेचना पश्चात अभियोग प़त्र न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए जिला दंडाधिकारी अनूपपुर की अध्यक्षता में आयोजित कमेटी द्वारा इस प्रकरण को चिन्हित एवं सनसनीखेज प्रकरणों की सूची में शामिल किया गया, प्रकरण की विवेचना व अन्य कार्यवाही की मॉनिटरिंग पुलिस अधीक्षक अनूपपुर द्वारा की गई और प्रकरण में राज्य की ओर से पैरवी जिला अभियोजन अधिकारी अनूपपुर द्वारा की गई।
प्रकरण में विचारण के दौरान पैरवीकर्ता अभियोजन अधिकारी द्वारा विवेचना में आए सभी तथ्यों को न्यायालय के सामने रखा और नकली नोटों की जब्ती आरोपीगण से ही हुई थी। इस संबंध में साक्ष्य प्रस्तुत किया, तथा जब्तशुदा समस्त नकली नोटों और नकली नोटों के संबंध में आई रिपोर्ट को भी न्यायालय में पेश किया, न्यायालय ने प्रथम दृष्टया समस्त नोटों को फर्जी होना प्रमाणित माना, न्यायालय द्वारा प्रकरण की गंभीरता और इस प्रकार के अपराध से देश की अर्थव्यवस्था पर पडऩे वाले प्रभाव को ध्यान में रखते हुए उक्त कठोर दंडादेश से दंडित किया है।

प्रकरण का एक आरोपी हुआ फरार

प्रकरण का एक आरोपी बल्देव सिंह अनुपस्थित रहा, उससे संपर्क स्थापित किया गया, उसकी कार्यवाही को प्रकरण से पृथक किया गया। आरोपी के अनुपस्थित होने के कारण जमानत मुचलके जब्त किये गए, स्थायी गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया और इस आरोपी के संबंध में निर्णय को बंद लिफाफे में रखा गया। आरोपी के गिरफ्तार होने पर भविष्य में न्यायालय द्वारा दंड के विषय में सुनकर दंडादेश पारित किया जा सकेगा।   

Anuppur News : कार सवार 4 लोगो ने 2 बाइक सवारों से की लूट

कोई टिप्पणी नहीं

पुलिस ने किया मामला दर्ज, आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस

अनूपपुर। थाना राजेन्द्रग्राम क्षेत्र अंतर्गत बंजारी मंदिर धर्मदास पुल के पास दो बाइक सवार से कार सवार चार लोगो द्वारा मारपीट करते हुए 3 हजार 500 रूपए एवं मोबाइल फोन की लुट की घटना को अंजाम दिया गया है। जहां शिकायत पर पुलिस ने कार में सवार सोमू सहित तीन अन्य के खिलाफ धारा 309(6), 3(5) बीएनएस के तहत मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश में जुटे हुए है। 
मामले की जानकारी देते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ओमप्रकाश पिता लालसिंह गोड़ उम्र 30 वर्ष निवासी कपरिया चौकी वेंकटनगर ने लिखित शिकायत दर्ज करवाई थी कि 11 जुलाई की रात मेरे मामला राजबली ङ्क्षसह ने बताया कि ग्राम हवेली में मेरे भंाजा लाल सिंह की तबियत अचानक खराब हो गई है। जिसके बाद दो बाइक में मेरे चाचा शंकर सिंह, मामा रामसिंह एवं नाना नोहर सिंह के साथ ग्राम हवेली के लिये निकले। रात लगभग 10.30 बजे जैसे ही जैतहरी-राजेन्द्रग्राम रोड़ स्थित बैहार पाट पार कर बंजारी मंदिर के पास पहुंचकर निस्तार के लिए रूके तभी एक सफेद रंग का ईको कार क्रमांक एमपी 65 जेडए 7862 वहां पर आकर रूकी और कार में सवार चार लोगो ने हम लोगो पूछताछ करने लगे और कार चालक ने सामू नामक व्यक्ति से मेरा मोबाइल छीन लेने के लिए बोला, जिसने मेरा मोबाइल छीन लिया और मोबाइल लूट लेने के बाद चारो लोगो ने जान से मारने की धमकी दी गई। जिसके बाद हम लोग बाइक से हवेली गांव के लिए निकल गये और जैसे ही धर्मदास गांव मेन रोड़ स्थित पुल के पास पहुंचे तो वहीं ईको कार हमारा पीछा करते हुए हमारे बाइक के सामने अपनी कार अचानक से रोक दिया। जिससे हम लोगो ने अपनी बाइक को खड़ा कर दिए और कार में सवार चारों लोगो ने बाइक की चॉबी निकाल कर मारपीट करते हुए मेरे लडक़े के जेब से 3500 रूपये जिसमें 5-5 सौ के 6 नोट एवं 100-100 के 5 नोट थे, उसे लूट कर रख लिया और चारों लोग कार में बैठ गये कार से चले गये। जहां शिकायत पर मामला पुलिस ने चारो लोगो ने मामला दर्ज किया गया है।

Anuppur : महिला की संदिग्ध मौत पर परिजनों ने लगाये हत्या के आरोप

कोई टिप्पणी नहीं

दो संदिग्ध से पुलिस कर रही पूछताछ, एक संदिग्ध पर मृतिका ने लगाया था दुष्कर्म का आरोप

अनूपपुर। कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत वार्ड क्रमांक 13 में किराए के मकान में निवास करने वाली 28 वर्षीय महिला की संदिग्ध मौत एवं परिजनों द्वारा हत्या की आशंका पर पुलिस ने मामले की जांच प्रारंभ करते हुए शव को पीएम हेतु भेजा गया, जहां पीएम उपरांत शव परिजनों को सौंप दिया गया है। पूरे मामले में पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह पवॉर सहित अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक इसरार मन्सूरी ने घटना स्थल वा शव का निरीक्षण करते हुए कोतवाली निरीक्षक अरविंद जैन को मामले की जांच के निर्देश दिए गए है। वहीं पुलिस ने मृतिका के परिजनों के आरोप पर दो संदेहियों को पकडक़र पूछताछ की जा रही है। 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 12 जुलाई की सुबह 3 बजे मृतिका विंदेश्वरी उर्फ नेहा राठौर पति सौरभ शिवहरे उम्र 28 वर्ष निवासी ग्राम कोलमी जो कि खम्परिया तालाब के पास वार्ड क्रमांक 13 अनूपपुर स्थित रामाकांत पांडेय के मकान में किराये के मकान में रहती थी। जिसने सुबह लगभग 4 बजे सतन प्रजापति एवं संकल्प सिंह को फोन कर फांसी लगाकर आत्महत्या करने की बात कही गई। महिला के आत्महत्या करने की बात सुन सतन प्रजापति उसके कमरे में पहुंचा, जहां महिला पंखे में चुनरी का फंदा लगाकर फांसी पर झुल रही थी। जिस पर उसने चाकू लेकर चुनरी को काट कर महिला के शव को जमीन में लेटा कर सूचना 108 एम्बुलेंस वाहन एवं 100 डॉयल को देते हुए मौके भाग निकला। जहां 100 डॉयल वाहन मौके पर नही होने पर सूचना गश्त कर रही पुलिस को दी गई। 

संदिग्ध हालत में मिला था शव

सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस महिला के घर में पहुंची, जहां एक कमरे में महिला विंदेश्वरी राठौर का शव जमीन पर मिला, वहीं दूसरे कमरे में पंखे में फंदा लगा चुनरी का कटा हिस्सा लटकते हुए देखा गया। जिसके बाद पुलिस ने घटना स्थल सहित शव का निरीक्षण करते हुए मृतिका के दो मोबाइल फोन जब्त करते हुए महिला के परिजनों को सूचना दी गई। जहां मृतिका के परिजनों के पहुंचते ही उन्होने हत्या किए जाने की आशंका जाहिर की गई। 

घटना स्थल पहुंच एसपी ने किया निरीक्षण

पूरे मामले की सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह पवॉर ने मौके पर पहुंचते ही घटना का निरीक्षण करते हुए एसडीओपी सुमित केरकेट्टा, डॉग स्कॉट, फिंगर प्रिंट विशेषज्ञ,कोतवाली निरीक्षक अरिवंद जैन, उपनिरीक्षक संजय खल्को को छोटी सी छोटी कड़ी ढुढऩे के निर्देश दिए गये साथ ही मृतिका के परिजनों को निष्पक्ष जांच किए जाने का आश्वासन दिया गया। 

दो संदिग्धों को पकडक़र की जा रही पूछताछ

पूरे मामले में पुलिस ने परिजनों के हत्या की आशंका एवं दो संदिग्धों जिनमें सतन प्रजापति निवासी जिला जेल के पास एवं संकल्प सिंह परिहार निवासी ग्राम बरबसपुर से पूछताछ की जा रही है। वहीं पुलिस ने पंचनामा के बाद शव को पीएम के जिला अस्पताल भेजा गया, जहां पीएम उपरांत शव परिजनों को अंतिम संस्कार हेतु सौंप दी गई। 

एक संदिग्ध ने मृतिका से किया था दुष्कर्म 

जानकारी के अनुसार विन्देश्वरी उर्फ नेहा राठौर पति सौरभ शिवहर ने पूर्व में संकल्प सिंह परिहार निवासी बरबसपुर पर दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था, जहां शिकायत पर पुलिस ने आरोपी संकल्प सिंह पर 15 मार्च 2024 को धारा 376, 376(2)(एन), 294, 506 के तहत मामला दर्ज किया गया था। महिला ने आरोप लगाया था कि संकल्प ने मुझे मिलने के लिए 14 मार्च को बुलाया था, तब मै कोलमी से स्कूटी लेकर बरबसपुर आई थी, जहां संकल्प ने बरबसपुर के जंगल में मुझे ले जाकर जान से मारने की धमकी देते हुए जबरन दुष्कर्म किया था। वहीं उक्त महिला ने फांसी लगाने से पहले संकल्प से भी वीडियो कॉल की थी। 

इनका कहना है

पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की जा रही है, कुछ लोगो के ऊपर आरोप लगे है, जिनसे पूछताछ की जा रही है। वहीं पीएम रिपोर्ट आने के बाद हत्या के कारणों का पता चल सकेगा।

जितेन्द्र सिंह पवॉर, पुलिस अधीक्षक अनूपपुर


© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR