Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

चीन से तनाव के बीच जवानों से मिलने लेह पहुंचे PM मोदी

चीन से तनाव के बीच जवानों से मिलने लेह पहुंचे पीएम

Friday, July 3, 2020

/ by News Anuppur

15 जून को गलवान घाटी में खूनी झड़प के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अचानक लेह पहुंच गए है। पीएम नरेंद्र मोदी जवानों और फिल्ड कमांडर के साथ बातचीत कर रहे है। इसके बाद पीएम मोदी कुछ लोकेशन पर जा सकते है और जमीनी हकीकत का जायजा ले सकते है। इसके साथ ही पीएम मोदी घायल जवनों से मुलाकात भी कर सकते है।

गौरतलब है कि भारत और चीन सीमा पर तनाव बरकरार है, चीन के बदले रूख के बाद भारतीय सेना ने करीब 45 हजार से अधिक जवानों को पूर्वी लद्दाख सीमा पर तैनात किया है। चीन की ओर से भी तैनाती बढ़ाई जा रही है। लाइन ऑफ एक्चुअल पर तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लेह दौरा कई बड़े संदेश देता है।

15 जून को गलवान में हुई थी झड़प

भारत और चीन की सेनाओं के बीच 15 जून की रात खूनी झड़प् हुई थी। गलवान घाटी में पेट्रोलिंग प्वाइंट 14 के पास हुई इस झड़प् में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। इसमें कमांडिंग अफसर संतोष बाबू भी शामिल थे। इस खूनी झड़प् में कई चीनी सैनिक भी हताहत हुए थे, लेकिन चीन की ओर से कोई अधिकारिक बयान नही जारी किया गया था।

क्यों हुई थी गलवान में झड़प

केंद्रीय मंत्री और पूर्व आर्मी चीफ जनरल वीके सिंह के मुताबिक, गलवान घाटी में पेट्रोलिंग प्वाइंट 14 के पास चीनी सैनिकों ने तंबू लगाए थे। भारतीय सेना ने चीन को पीछे हटने के लिए कहा था। चीनी सैनिकों ने वादा किया था कि वह पीछे चले जाएंगे, लेकिन वह नही गए। इसके बाद भारतीय सेना की एक टुकड़ी पीपी 14 पर चीनी सैनिकों से बात करने गई थी।  केंद्रीय मंत्री वीके सिंह के मुताबिक, जब भारतीय सैनिक पीपी 14 के पास पहुंचे थे तो वहां पर बड़ी संख्या में चीनी सैनिक इकट्ठा थे। बातचीन के दौरान ही अचानक चीनी सैनिकों ने तंबू में आग लग गई। इसके बाद दोनो देशो की सेनाएं आमने-सामने आ गई। यह खूनी झड़प् पूरी रात चलती रही।

दोनों देशो के बीच हो चुकी है तीन दौर की बातचीत

गलवान घाटी में झड़प के बाद दोनो सेनाओं के अधिकारियों के बीच दो दौर की बातचीत हुई है, इससे पहले 6 जून को बातचीत हुई थी, जिसमें चीनी सैनिक पीछे हटने के लिए तैयार हो गई थी, लेकिन वह पीछे नही गए। नतीजन दोनो देशो के सैनिकों के बीच खूनी झड़प हुई। गलवान झड़प् के बाद दोनो देशो के बीच दो दौर की सैन्य कमांडर स्तर पर बातचीत हुई। हर बातचीत में चीन पीछे हटने के लिए तैयार हो जाता है, लेकिन जमीन पर अपनी तैनाती को बढ़ाते जा रहा है। भारतीय सेना की ओर से भी मिरर तैनाती की जा रही है।

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR