Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

वेंकटनगर चौकी से 3 किमी दूर पकड़ा गया गांजे से भरा वाहन

Wednesday, August 7, 2019

/ by News Anuppur


छ.ग. एवं म.प्र. की सीमा विवाद पर पेण्ड्रा पुलिस को सौपनी पड़ी कार्यवाही
वेंकटनगर। अनूपपुर जिला छत्तसीगढ़ की सीमावर्ती क्षेत्र में होने के साथ ही मध्यप्रदेश के 5 जिलो को जोडने वाला जिला है, जहां लगातार उड़ीसा से गांजे की बड़ी खेप को लाकर इसी रास्ते से होते हुए अन्य जिलो सहित प्रदेशो में भी गांजा तस्करो द्वारा खपाया जाता है। जहां 7 अगस्त की सुबह मुखबिर की सूचना पर पेण्ड्रा पुलिस ने गौरेला में घेराबंदी की थी, जहां पुलिस को देखते हुए गांजा तस्कर किसी तरह वहां से भाग निकले, जिसके बाद पेण्ड्रा पुलिस ने वाहन का पीछा करते हुए तत्काल सूचना वेंकटनगर चौकी सहित कंट्रोल रूम सूचना दी, जहां वेंकटनगर पुलिस ने घेराबंदी कर ली, लेकिन अचानक तस्कर वेंकटनगर पुलिस को देखते हुए अपना वाहन वापस पेण्ड्रा की घुमा कर वेंकटनगर चौकी से लगभग 3 किमी दूर स्थित ग्राम खैरझिटी की ओर मुड गए जहां नदी में अधिक पानी होने पर गांजा से लदा चार पहिया वाहन को रास्ते में छोड भाग निकले, जिस पर वेंकटनगर पुलिस ने एक आरोपी को पीछा कर पकड़ा तथा वाहन की जांच की गई, जिसमें वाहन के अंदर भारी मात्रा में गांजे के पैकेट लोड थे। इस बीच पेण्ड्रा पुलिस भी पीछे से पहुंच गई और सीमा विवाद पर पूरा मामला वेंकटनगर पुलिस द्वारा पेण्ड्रा पुलिस को सौंपना पड़ा।

यह है मामला
मामले की जानकारी के अनुसार पेण्ड्रा से अनूपपुर की ओर आ रही गांजे से लदे चार पहिया वाहन क्रमांक सीजी 05 एफ 5000 की सूचना पेण्ड्रा पुलिस द्वारा 7 अगस्त की सुबह लगभग 8 बजे वेंकटनगर चौकी प्रभारी वीरेन्द्र तिवारी को दी गई। जहां सूचना मिलते ही चौकी प्रभारी वीरेन्द्र तिवारी, प्रधान आरक्षक सुरेश कोरी ने मौके पर ही चौकी से कुछ ही दूर घेराबंदी किया गया, जहां पुलिस को देखते हुए गांजा तस्कर ने वाहन को वापस पेण्ड्रा की ओर मोड़ते हुए ग्राम खैरझिटी की ओर मोड़ दिया, जहां वेंकटनगर पुलिस ने वाहन का पीछा किया, लेकिन तस्कर खैरझिटी पुल के पास रास्ता नही होने के कारण गांजा तस्कर वाहन को छोडकर नदी के उस पार भागने लगे। जहां पीछा कर रही वेंकटनगर पुलिस ने एक आरोपी को पकड़ा लिया। इस बीच पीछा कर रही पेण्ड्रा पुलिस पहुंंच गई, जहां ग्राम खैरझिटी छत्तीसगढ़ में आने के कारण आरोपी सहित गांजे से भरा वाहन अपने साथ पेण्ड्रा थाने कार्यवाही करने ले गई। मामले की जानकारी देते हुए वेंकटनगर चौकी प्रभारी वीरेन्द्र तिवारी ने बताया की चार पहिया में लगभग डेढ़ से दो क्विंटल गांजा लोड़ था।
जमकर फल फूल रहा व्यापार
जानकारी के अनुसार जिले के कई थानो में गांजे के प्रकरण दर्ज है, जो दूसरे जिले में गांजे की बड़ी खेप पहुंचाने के लिए तस्करी करने के लिए आसान रास्ता मानते है जिसके कारण जिले के कोतमा, भालूमाड़ा, अनूपपुर, चचाई, राजेन्द्रग्राम एवं करनपठार थाना क्षेत्र को पार कर अन्य जिलो जिनमे शहडोल, कटनी, रीवा, जबलपुर, सीधी, सिंगरौली में गांजे की खेप पहुंचाई जाती है। जहां गांजे तस्करी में पकड़े हुए ज्यादातर आरोपी अनूपपुर जिले के होते है। ज्यादातर आमदनी होने की वजह से इस धंधे में युवाओं की सहभागिता ज्यादा देखने को मिली है, जो नए चार पहिया वाहनो में प्रेस, राजनीतिक पार्टियो का मोनो एवं पुलिस लिख गांजा का परिवहन करते है। अब तक जिले में पकड़े गए वाहनो में अधिकतर प्रेस एवं पुलिस लिखा कर गांजे की तस्करी कर पुलिस की आंखो में धूल झोंक अपने मंसूबो में भी कामयाब हो जाते है।
उड़ीसा से आती है खेप
जिले के अनूपपुर, भालूमाड़ा, कोतमा, राजेन्द्रग्राम, करनपठार एवं चचाई थाने में अब तक पकडाए गए गांजे की खेप को आरोपियों ने उड़ीसा से छत्तीसगढ़ के रास्ते होते हुए अनूपपुर जिले में पहुंच स्टॉक को रखना बताने के साथ ही मांग होने पर अन्य जिलो एवं प्रदेश में भेजना भी बताया था। इसके साथ ही सूचना पर पुलिस ने अनूपपुर के कई ग्रामीण क्षेत्रो में छापामार कार्यवाही कर भारी मात्रा में छिपाए गए गांजे के स्टॉक को जब्त भी किया था। जानकारी के अनुसार वर्ष 2013 एवं वर्ष 2014 में सबसे ज्यादा प्रकरण गांजा तस्करी के दर्ज हुए थे। जहां इन दोनो वर्षो में गांजे के 29 प्रकरण जिनमें 30 चार पहिया वाहनो में 1 टन 80 किलो गांजे सहित कई आरोपियों को पकड़ा गया था। जिसके बाद वर्ष 2015 से यह आंकडे धीरे-धीरे कम होते हुए खत्म हो गए, लेकिन गांजे की तस्करी कम नही हुई अब भी उड़ीसा एवं छत्तीसगढ़ के कई जिलो की पुलिस ने भारी मात्रा में गांजा के परिवहन करते कई वाहन पकड़े गए, जिसमें ज्यादातर आरोपी अनूपपुर जिले के रहे।


No comments

Post a Comment

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR