Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

लाॅकडाउन का फायदा उठा मोजर वेयर जैतहरी में हुआ कोयला घोटाला

लाॅकडाउन का फायदा उठा मोजर वेयर जैतहरी में किए गए कोयला घोटाला

Sunday, May 24, 2020

/ by News Anuppur

कंपनी के अधिकारियों ने ही कंपनी को लगाया चूना, कोयला के ग्रेड का चला खेल
अनूपपुर। एक तरफ पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है, वहीं दूसरी तरफ इस महामारी का फायदा उठाते हुए जैतहरी स्थित मोजर वेयर प्लांट के अधिकारियों द्वारा कोयला घोटला करने में जूटे हुए है। जहां सी ग्रेड कोयला को मंगाकर ए श्रेणी के कोयला अनुमानित कीमत 3 हजार रूपए प्रति टन के हिसाब से रुपये निकालने का खेल खेला जा रहा है। जिसकी लिखित शिकायत पुलिस अधीक्षक अनूपपुर से की गई है। मामले में शिकायतकार्ता ने मोजर वेयर के हेड श्री मिश्रा एवं मैनेजर श्री खटाना पर आरोप लगाया है कि इनके द्वारा लाॅकडाउन का फायदा उठाते हुए बीते दो माह से रेलवे के माध्यम से सी ग्रेड का कोयला मंगा कर कंपनी को चूना लगाते हुए बैंक के माध्यम से ए ग्रेड कोयला बनाकर पैसा निकाला जा रहा है। इतना ही नही महाराष्ट्र से ट्रको के माध्यम से भी सी ग्रेड का कोयला मंगाया जा रहा है। शिकायत के अनुसार मोजर वेयर पावर प्लांट जैतहरी में 3 लाख टन कोयला का स्टाॅक है, जो घटिया होने के साथ सी ग्रेड का है। वहीं मोजर वेयर में प्रतिदिन कोयले की खपत 10 हजार टन की है। जिस पर कंपनी के अधिकारी श्री मिश्रा एवं श्री खटाना दोनो अधिकारी मिलकर ए श्रेणी का पैसा बैंको से निकाल कोल माफियाओं से मिलकर सी श्रेणी का कोयला मंगा उस कोयले को कंपनी में खपत कराकर करोड़ो रूपए की धोखाधड़ी कर रहे है। शिकायत कर्ता ने बताया मोजर वेयर बैंक से यह जानकारी प्राप्त की जा सकती है कि कोयले के किस ग्रेड के पैसे की निकासी की जाती है तथा महाराष्ट्र व अडानी ग्रुप व अन्य कोल बासुरी से किस ग्रेड का कोयला मंगाया जाकर कंपनी में उसका खपत किया जा रहा है। मोजर वेयर में किए गए कोयला घोटाला का खेल सिर्फ दो माह में ही खेला गया है। जिस पर धोखाधड़ी किए जाने वालो के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की मांग की गई है। वहीं पूरे मामले की शिकायत की जांच के लिए पुलिस अधीक्षक ने जैतहरी थाने को करने के निर्देश दिए गए है। जब इस संबंध में मोजर वेयर कंपनी के अधिकारियों से बात की गई तो उन्होने इस पूरे मामले में चुप्पी साधते हुए इस तरह की बातो से साफ इंकार कर दिया। वहीं जैतहरी थाना प्रभारी के.एस. ठाकुर ने बताया की शिकायत प्राप्त हुई है, पूरे मामले में कंपनी से दस्तावेज मंगाए गए है। जहां कंपनी ने अब तक किसी तरह के दस्तावेज पेश नही किए है। सूत्रो के अनुसार इस पूरे मामले में लगातार पुलिस के पास जांच न कर मामले को रफदफा किए जाने का दवाब भी दिया जा रहा है। अब देखना है पुलिस कोयला घोटाला के खेल की जांच कब तक कर पाती है या फिर पुलिस भी जांच के नाम पर मामले को ठंडे बस्ते में डालकर कंपनी के साथ धोखाधड़ी करने वाले कंपनी के अधिकारियों को फिर से धोखाधड़ी करने का अवसर प्रदान करती है।


'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR