Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

थाना प्रभारी बिजुरी की मारपीट व अपमान से क्षुब्ध व्यापारी ने मिट्टी तेल डाल की आत्महत्या, हुई शिकायत

थाना प्रभारी बिजुरी की मारपीट व अपमान से क्षुब्ध व्यापारी ने मिट्टी तेल डाल की आत्महत्या, हुई शिकायत

Monday, May 4, 2020

/ by News Anuppur

अनूपपुर। थाना बिजुरी के निरीक्षक संजय पाठक द्वारा सार्वजनिक सड़क पर अपशब्दो का प्रयोग कर जबरन थाना ले जाकर मारपीट व अपमान से क्षुब्ध व्यापारी ने अपने ऊपर मिट्टी तेल डालकर आत्महत्या किए जाने के बाद 4 मई को मृतक की पत्नी प्रीति अग्रवाल ने पुलिस अधीक्षक को लिखित शिकायत करते हुए निष्पक्ष जांच कर कार्यवाही की मांग की है। जहां प्रीति अग्रवाल ने बताया की कोरोना महामारी में हुए लाॅकडाउन पर कलेक्टर के निर्देशानुसार उसके पति स्व. रामचंद्र अग्रवाल अपने घर में ही दुकान संलग्न दुकान को 23 मार्च को निर्धारित समय बंद कर दोपहर लगभग 3 बजे अपने पिता रामकृपाल अग्रवाल उम्र 70 वर्ष के लिए दवाई लेने मेडिकल स्टोर अपनी पुत्री आकांक्षा के साथ मेडिकल स्टोर जा रहे थे तभी बिजुरी नगर निरीक्षक संजय पाठक रोक लिये और अपशब्दो करते हुए उन्हे अपने साथ थाना बिजुरी ले गए। जहां लगभग 7 बजे शाम उन्हे थाना प्रभारी द्वारा घर छोड़ा, जहां वह घर के बाहर बैठकर रो रहे थे और उनके साथ थाने में डंडे से की गई मारपीट के निशान भी आस पड़ोस के लोगो के लोगो ने देखा था। जिसके बाद से मेरे पति रामचंद्र अग्रवाल के साथ बिजुरी थाना प्रभारी एवं अन्य पुलिसकर्मियो द्वारा की गई मारपीट से अपने आप को अपमानित महसूस किए तथा उन्हे उनके मान सम्मान व प्रतिष्ठा पर गहरा आघात लगा जिससे उन्होने अपने आप को एक कमरे में बंद कर लिया और किसी से बोलना भी बंद कर दिए। 25 मार्च को पुनः दोपहर में लगभग 12 बजे उसके पति रामचंद्र अग्रवाल घर का सामान लेने दुकान गए थे तभी नगर निरीक्षक संजय पाठक फिर से मिले और फिर से उनके साथ अपशब्दो का प्रयोग किए। जिसके बाद वे घर वापस आए और अपने कमरे में घुस गए उस समय मै घर के काम में व्यस्त हो गई। जहां लगभग दोपहर 1 बजे मेरे पति ने कमरे में ही मिट्टी तेल डालकर अपने आप को आग लगा लिए, जहां आग से जलते हुए पति के चिल्लाने के बाद मै व मेरे आस पड़ोस के लोग कमरे के पास दौड़े और दरवाजा तोड़ने की कौशिश करने लगे। जब दरवाजा नही खुला तो बच्ची को खिड़की से कमरे के अंदर भेजा गया और बच्ची के दरवाजा खोलते हुए उनके शरीर को कंबल व अन्य से आग बुझाने की कोशिश किए और तत्काल बिजुरी अस्पताल ले गए। जहां से उन्हे रेफर कर दिया और रात लगभग 8 बजे उनकी मृत्यु हो गई। प्रीति अग्रवाल ने बताया की उसके पति सम्मानित व्यापारी थे वे कभी थाना पुलिस के चक्कर में नही पड़े थे। जहां नगर निरीक्षक ने उनके साथ बेवजह अपषब्दो का प्रयोग कर अभद्र व्यवहार तथा मारपीट किया जिससे क्षुब्ध होकर आत्मग्लानिवश उन्होने आत्महत्या कर लिया। प्रीति अग्रवाल ने बताया की उनके पति द्वारा बिजुरी नगर निरीक्षक के कारण ही आत्महत्या की है। पूर्व में भी पति को प्रताड़ित करने को लेकर षिकायत की थी जिसकी जांच नही की गई है। जिस पर उन्होने निष्पक्ष जांच करते हुए बिजुरी नगर निरीक्षक संजय पाठक के खिलाफ उचित कार्यवाही करने की मांग की है।

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR