Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

सजहा वेयर हाउस निरीक्षण करने पहुंचे एसडीएम, कहा बंटने योग्य नही खाद्यान्न

सजहा वेयर हाउस निरीक्षण करने पहुंचे एसडीएम, कहा बंटने योग्य नही खाद्यान्न

Monday, July 6, 2020

/ by News Anuppur



गेहूं की 30 हजार बोरी में लगा घुन, 1746 बोरी चावल मिला खराब
अनूपपुर। सजहा वेयर हउस में भंडारित खाद्यान्न के खराब हो जाने की लगातार शिकायत के बाद कमिश्रर शहडोल के निर्देशन पर एसडीएम अनूपपुर कमलेशपुरी सहित खाद्य विभाग की टीम 5 जुलाई की दोपहर पहुंचकर कर गोदाम में भंडारित खाद्यान्न सामग्री का निरीक्षण किया गया। जहां अलग-अलग गोदाम के 6 ब्लॉक के 13 स्टेक के 13 गेहूं के नमूने एवं 1 नमूना चावल का लेते हुए गोदाम में भंडारित गेहूं, चावल, चना, मसूर, उड़द की जांच की गई, जिसमें चावल व गेहूं खराब व कीटयुक्त पाया गया। जिस पर पंचनामा बनाते हुए प्रतिवेदन कलेक्टर को सौंपने की बात कही गई। वहीं गोदाम के निरीक्षण के दौरान वेयर हाउस अनूपपुर शाखा प्रबंधक प्रीति शर्मा, एमपीएससीएससी के प्रदय केन्द्र प्रभारी सुनील गर्ग सूचना के बाद भी उपस्थित नही हुए। वहीं मौके पर गोदाम प्रतिनिधि ने 3 जुलाई की स्थिति में गोदाम के आरंभिक स्कंध की जानकारी प्रस्तुत नही की गई। वहीं जांच में खाद्य विभाग के सहायक आपूर्ति अधिकारी वॉय.एस. तिवारी, कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी प्रदीप द्विवेदी व प्रदीप त्रिपाठी ने जांच की।

10 स्टेक की 29110 गेहूं की बोरियां खराब

गोदामों के निरीक्षण के दौरान सबसे पहले टीम ने गोदाम क्रमांक 15बी में रखे 10 स्टैक गेहूं की जांच की गई, जांच में सभी 10 स्टैक गेहूं घुना व कीटग्रस्त पाया गया, जिसे पूर्व की जांच में अंडर कवर होना बताया गया था। उक्त स्टैक क्रमांक 3 में 1828, 4 में 2633, 5 में 2630, 6 में 3240, 7 में 3147, 8 में 2792, 9 से 11 तक 3240 एवं 12 में 3120 बोरी गेहूं खराब पाया गया है। जिस पर टीम में हर स्टैक से 2-2 नमूना सैम्पल तैयार किया गया एवं बोरियों की संख्या स्टैक कार्ड अनुसार दर्ज की गई है।

1746 चावल की बोरी हुई खराब

जांच के दौरान गोदाम में रखे चावल के स्टैक की जांच की गई, जिसमें 1746 बोरी चावल पूरी तरह से खराब होना मिला। वहीं चावल की बोरियो में न तो स्टेनसिल पर्ची थी, जिससे किसी भी मिलर का नाम नही पता चल सका, वहीं चावल लगभग तीन से चार वर्ष पुराना होना पाया गया, जहां गोदाम संचालक के बिना देखरेख में खराब हो गया। वहीं चावल के संबंध में जांच अधिकारियों का कहना है कि चावल खाने योग्य ही नही बचा है।

निरीक्षण में कई स्टैक कीटोपचार से थे अंडरकवर

पूरे मामले में जांच गोदाम क्रमांक 15 सी में नए चावल के 8 पूर्ण व 1 अपूर्ण स्टैक भंडारित पाया गया। जिसमें पुराने गेहूं के 2 स्टैक भंडारित पाए गए जिसमें से 1 स्टैक कीटोपचार कर अंडरकवर होना पाया गया तथा दूसरे स्टैक क्रमांक 8 भंडारित गेहूं कीटग्रस्त होना पाया, जिसमें सभी के सैम्पल लिए गए।

गेहूं, चना एवं मसूर मिले अंडरकवर

वहीं गोदाम क्रमांक 15डी के 12 स्टैक को कीटोपचार कर अंडरकवरर्ड कियाना जाना पाया गया, जिसमें 1 स्टैक में चना की 2265 बोरियां, 2 स्टेको में मसूर की 4758 बोरियां, 5 स्टैको में नया गेहूं व 4 स्टैको में पुराना गेहूं भंडारित होना मिला। उक्त सभी स्टैको में कीटोपचार कर अंडरकवर्ड होने से उनके सैम्पल नही लिए जा सके। वहीं पुरानी गेहूं के चारो स्टैक अधूरे पाए गए। इसके साथ ही गोदाम नं. 15 ई में 12 स्टैको में गेहूं भंडारित होना बताया गया एवं उनका कीटोपचार हेतु अंडरकवरर्ड किया गया था।

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR