Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

जिला मुख्यालय की हालत देख जिला प्रशासन हुआ बीमार की कहावत बना जनचर्चा

Monday, October 14, 2019

/ by News Anuppur

नशे में अधिकारी करेगे सुरक्षा और विकास, कोई पड़ा नाले में तो कोई अस्पताल में मचाया हंगामा
अनुपपुर। अनूपपुर जिला मुख्यालय की हालत देख नगर के लोगो में जिला प्रशासन बीमार है की कहावत सुर्खियो में है। जिला मुख्यालय की बदलती तस्वीर जहां धूल के गुबार वातावरण में उड़ मुख्यालय की तस्वीर को धुंधली कर दिए है। जिला मुख्यालय को जोड़ने वाली चारो ओर की सड़को की हालत से विकास की तस्वीर धुंधली सी हो गई है। आए दिन जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन पर अपने कार्यो के उत्तरदायित्वो के प्रति लापरवाही बरतने के कई मामले सामने आए है। जिसको लेकर जिला बीमार है की जगह जिला प्रशासन बीमार है की कहवात चरितार्थ की गई है। वहीं अब पुलिस प्रशासन के कार्यो पर नजर डाला जाए तो जिले के समस्त थानो में जुआं, सट्टा, कबाड़, चोरी, कोयला चोरी, अवैध शराब के ठीहे कितने बंद है और कितने चालू यह किसी से छिपा नही है।  इसके साथ ही अधिकारी नशे की हालत में मदहोश है, जहां 12 अक्टूबर को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की छत पर डाॅ. मुकेश शर्मा द्वारा अपने स्टाॅफ के साथ मांसाहारी भोजन एवं शराब पीकर डाॅ. मुकेश द्विवेदी से अभद्रता करते हुए अस्पताल में जमकर हंगामा मचाया तो वहीं 13 अक्टूबर को डिस्ट्रिक होमगार्ड कमांडेंट कार्यालय के पास ही जिला होमगार्ड कमांडेंट शराब के नशे में नाली में धुत पड़ा रहा। जहां आसपास के लोगो ने उन्हे नाली से बाहर निकाला तथा उसकी सूचना कोतवाली पुलिस को दी गई। जहां मौके पर पहुंची पुलिस ने डिस्ट्रिक होमगार्ड को उनके निवास तक पहुंचाई।
जिला बीमार है कहावत बना चर्चा का विषय
अनूपपुर जिले में प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा अपने उत्तरदायित्व कार्यो की प्रति लापरवाही बरतने सहित जिला मुख्यालय की हालत को देख लोगो में जिला बीमार होने जैसे कहावत की चर्चा बनी हुई है। जिसमें पुलिस अधिकारी भी पीछे नही है। जिसमें जनपद जैतहरी सीईओ इमरान सिद्धकी पर भ्रष्टाचार का आरोप, पटवारी रमेश पर भू-स्वामी द्वारा उसकी भूमि के हेरफेर, तो वहीं भालूमाड़ा थाना प्रभारी मनोज दीक्षित सहित दो आरक्षको द्वारा डीजल चोरो को पकड़ने के बाद हथकड़ी लगे आरोपियों को छोड दिए जाने के साथ ही फुनगा में सड़क दुर्घटना में हुए 5 वर्षीय मासूम की मौत पर फुनगा चौकी प्रभारी का बेतुका बयान सहित फुनगा चौकी में बूचड़ खाने ले जा रहे मवेशियों को पकड़े जाने पर पशु तस्करो का साथ देने एवं कार्यवाही के समय मौके से प्रधान आरक्षक अरविंद राय द्वारा भगा दिए जाने के ग्रामीणो की मौखिक शिकायत, वित्तिय अनियमितता में पीएचई उपयंत्री एस.पी. द्विवेदी, एसडीएम पुष्पराजगढ़ ऋषि सिंघई पर अधिवक्ताओं से झड़प के साथ ही जिला पंचायत सीईओ सरोधन सिंह द्वारा अपनी अंतर आत्मा से आंगनबाडी कार्यकर्ता व सहायिका की नियुक्ति जैसे मामले ही जिले की कायाकल्प को पलट दिए है। जिससे लोगो में जिला बीमार है जैसी कहावत की जनचर्चा सही साबित करने की एक पहल ही जिला प्रशासन का सबसे बड़ा प्रयास है।
अब नशे में अधिकारी करेगे जिले की सुरक्षा
जिले में एक ओर मरीजो को स्वास्थ्य लाभ देने वाले डाॅक्टर जहां सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र वेंकटनगर के छत पर मांसाहारी भोजन सहित शराब का सेवन किए जाने का मामला सामने आया। तो वहीं 13 अक्टूबर को डिस्ट्रिक होमगार्ड कमांडेंट जगदीश प्रसाद उइके के नशे की हालत में नाली में मदहोश पड़े रहने जैसे मामले से लोगो में चर्चा का विषय बना हुआ है। वहीं जिला मुख्यालय में सड़क, पानी, बिजली, स्वीकृत निर्माण कार्यो के रूके होने के साथ ही निर्माणाधीन कार्यो में बरती गई लापरवाही से जिला प्रशासन पूरी तरह से अंजान बना हुआ है। इन्ही तरह अन्य मामलो में भी अब जिले का संपूर्ण विकास होगा।

No comments

Post a Comment

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR