Responsive Ad Slot

ताजा खबर

latest

कलेक्टर ने जैतहरी, वेंकटनगर एवं एमबी पावर के स्वास्थ्य केन्द्रो का किया औचक निरीक्षण

कलेक्टर ने जैतहरी, वेंकटनगर एवं एमबी पावर के स्वास्थ्य केन्द्रो का किया औचक निरीक्षण

Friday, April 16, 2021

/ by News Anuppur



कोरोना संक्रमित मरीजों को जरूरत पड़ने पर रेफर करने के निर्देश 

अनूपपुर। जिले के सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए की गई स्वास्थ्य तैयारियों की मैदानी हकीकत जानने के लिए 16 अप्रैल को कलेक्टर चन्द्रमोहन ठाकुर ने जैतहरी सहित वेंकटनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का औचक निरीक्षण कर स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा लिया और कोरोना से निपटने के लिए स्वास्थ्य व्यवस्थाएं दुरूस्त रखने के चिकित्सकों को निर्देश दिए। इस दौरान अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) जैतहरी विजय डेहरिया एवं तहसीलदार भावना डेहरिया उपस्थित रहीं।

कलेक्टर ने कोरोना मरीजों में विश्वाश कायम करने के लिए उन्हें बेहतर चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराने के चिकित्सकों एवं स्वास्थ्य कर्मियों को निर्देश दिए। कोरोना मरीजों को अनावष्यक रूप से जिला चिकित्सालय के लिए रेफर ना करें। इससे वहां अनावश्यक रूप से मरीजों की संख्या बढ़ती जाएगी। जबकि उनका इलाज यहीं रखकर किया जा सकता है। इसलिए ऐसे मरीजों को यहीं भर्ती रखकर उनका समुचित इलाज किया जाए  आवश्कता पड़ने पर ही उन्हें जिला चिकित्सालय के लिए रेफर किया जाए। 

कोरोना मरीजों के लिए 10 बेड ऑक्सीजन  सिलेंडर के साथ तुरंत तैयार रखने के चिकित्सकों को निर्देश दिए। कलेक्टर ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए तैयार की गई मेडीकल किट का अवलोकन किया और निर्देश दिए कि सभी जरूरी दवाएं हमेशा उपलब्ध रखी जाएं। नर्सों को आॅक्सीजन सिलेंडर ऑपरेट करना आना चाहिए। ऑक्सीजन की समुचित व्यवस्था रखी जाए, ताकि आपातकाल में कोरोना मरीजों का बेहतर ढंग से इलाज किया जा सके। 

कलेक्टर ने चिकित्सकों से पूछा कि स्वास्थ्य केन्द्र में सुगर एवं बीपी की जांच हो रही है या नहीं। भर्ती मरीजों के खाने-पीने की व्यवस्था की गई है अथवा नहीं। चिकित्सकों को हिदायत दी कि वे लोगों में आत्मविश्वास जगाएं कि कोरोना मरीज यहां भर्ती हों अगर मरीज का ऑक्सीजन लेवल 95 से नीचे जाए, तो तत्काल उसका इलाज शुरु कर उसका ऑक्सीजन लेवल बढ़ाएं।

शहरी क्षेत्रों में घर-घर जाकर कराएं बुखार की जांच 

कलेक्टर ने स्वास्थ्य केन्द्र के फीवर क्लीनिक का अवलोकन करते हुए चिकित्सकों से पूछा कि एक दिन में कितने लोगों के सेम्पल लिए जा रहे हैं। प्रतिदिन कम से कम 100 व्यक्तियों के सेम्पल लेने, शहरी क्षेत्रों में वार्डवार घर-घर जाकर बुखार आदि की जांच कराने के चिकित्सकों को निर्देश दिए और कहा कि इसकी तत्काल योजना बनाएं। जो व्यक्ति इस सर्वे में संक्रमित मिले, उसका तत्काल सेम्पल लेकर जांच कराएं और जांच में कोरोना संक्रमित पाए गए मरीजों का तुरंत उपचार शुरु करें।घर-घर जाकर सर्वे करने के कार्य में आशा कार्यकर्ताओं को लगाया जाए। एक दिन में एक आशा से 100 व्यक्तियों की जांच कराई जाए। इस कार्य में नगरपालिका कर्मियों को भी तैनात किया जाए। कलेक्टर ने स्वास्थ्य केन्द्र में आइसोलेशन वार्ड, वैक्सीनेशन सेंटर एवं फीवर क्लीनिक की गतिविधियों का जायजा लिया और फीवर क्लीनिक के मरीजों की पंजी का भी मुआयना किया।

एमबी पावर प्लांट के अस्पताल का भी निरीक्षण 

कलेक्टर ने एमबी पावर प्लांट के अस्पताल का भी भ्रमण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। कलेक्टर ने वहां तत्काल 10 बिस्तर ऑक्सीजन सहित तैयार रखने और ऑक्सीजन के सिलेण्डरों की संख्या बढ़ाने के अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए।  कलेक्टर ने अस्पताल में इमरजेंसी रूम, मेल वार्ड, फीमेल वार्ड, एक्स-रे रूम सहित वहां उपलब्ध ऑक्सीजन सिलेंडरों का अवलोकन किया। कलेक्टर ने वहां बढ़ाकर 25 बेड और 25 सिलेण्डरों की व्यवस्था रखने के अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए। चिकित्सा अधिकारी से कहा कि आपके प्लांट के जिन कर्मचारियों का ऑक्सीजन लेवल 95 से कम आए, तो उन्हें यहीं रखकर ऑक्सीजन थैरेपी दें। प्लांट से संबंधित मरीजों को यहीं रखकर उनका इलाज करें। ऑक्सीजन लेवल 95 से ऊपर आने वाले व्यक्तियों को उनके घर रखकर उनका इलाज किया जाए। अस्पताल में पैरामेडीकल स्टाफ की संख्या बढ़ाने को भी कहा। कलेक्टर ने यहां दवाइयों की उपलब्धता की जानकारी लेते हुए वहां सभी आवश्यक दवाइयां उपलब्ध रखने के निर्देश दिए। अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी ने अस्पताल की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं से कलेक्टर को अवगत कराया। 


No comments

Post a Comment

'
Don't Miss
© all rights reserved
made with NEWSANUPPUR